Sunday , December 17 2017

भारत में लोकतंत्र तभी तक सुरक्षित है जब तक बहुसंख्यकों की आबादी है: गिरिराज सिंह

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा कि भारत में लोकतंत्र भी तभी तक सुरक्षित है जब तक बहुसंख्यकों की आबादी है। बहुसंख्यक आबादी गिरेगी उस दिन लोकतंत्र भी खतरे में होगा, इसलिए देश की जनसांख्यिकी में हो रहे बदलाव को रोकने के लिए देश की जनसंख्या नियंत्रण के संबंध में कानून बनना चाहिए। सरोकार समिति द्वारा गुरुवार को ‘‘राष्ट्रवाद के संकल्प से नव भारत की सिद्धि’’ विषय पर व्याख्यान देते हुए सिंह ने कहा, ‘‘मैं कहना चाहता हूं कि भारत में जम्हूरियत भी तब तक है और लोकतंत्र भी तभी तक सुरक्षित है जब तक बहुसंख्यकों की आबादी है। जिस दिन बहुसंख्यकों की आबादी गिरेगी उस दिन लोकतंत्र भी, मैं तो कहता हूं विकास और सामाजिक समरसता दोनों खतरे में होंगे।’’

उन्होंने कहा, ‘‘देश में जनसांख्यिकी बदलाव हो रहा है। उत्तरप्रदेश, असम, पश्चिम बंगाल, केरल और अन्य राज्यों सहित देश के 54 जिलों में हिन्दू आबादी गिर गई है और ये जिले मुस्लिम बहुसंख्यक हो गए हैं। जनसांख्यिकी बदलाव भारत की एकता और अखंडता के लिए खतरा बन रहा है। इसलिए आबादी नियंत्रण के संबंध में देश में एक कानून बनना चाहिए जो सभी धर्म के लोगों पर एक समान रूप से लागू हो।’’ सिंह ने दावा किया, ‘‘मैं चुनौती और जिम्मेदारी के साथ कह रहा हूं कि देश में जहां-जहां हिन्दुओं की आबादी गिरी है, वहां-वहां सामाजिक समरसता कम हुई है और राष्ट्रवाद कमजोर हो रहा है। राष्ट्रवाद के लिए जनसांख्यिकी बदलाव घातक है और इससे निपटने के लिए गांव-गांव से आवाज उठनी चाहिए।’’

उन्होंने कहा कि आज देश की जनसांख्यिकी बदल गई है। आजादी के वक्त विभाजन के समय 1947 में पाकिस्तान के हिस्से आए भूभाग पर 22 फीसद हिन्दू आबादी थी जो अब वहां मात्र 1 प्रतिशत रह गई है। इसके उलट भारत में आबादी के वक्त 90 फीसद हिन्दू थे और मुस्लिम 8 प्रतिशत थे। मीडिया के अनुसार लेकिन अब भारत में मुस्लिम आबादी 8 प्रतिशत से बढ़कर 22 प्रतिशत हो गई और हिन्दू आबादी 90 प्रतिशत से घटकर 72 प्रतिशत हो गई है। उन्होंने कहा कि देश के बढ़ती जनसंख्या सरकार की चिंता तो है लेकिन यह आप (समाज) की भी चिंता होना चाहिए, क्योंकि इसके कारण देश में किया जा रहा विकास और रोजगार दिखाई नहीं देता है।
TOPPOPULARRECENT