भारत लौटे केंद्रीय मंत्री अकबर, यौन शोषण के आरोपों पर बोले- बाद में दूंगा बयान

भारत लौटे केंद्रीय मंत्री अकबर, यौन शोषण के आरोपों पर बोले- बाद में दूंगा बयान
Click for full image

#Metoo कैंपेन के तहत यौन शोषण के आरोपों से घिरे केंद्रीय मंत्री एम जे अकबर रविवार को इंडिया लौट आए. एयरपोर्ट पर पत्रकारों से जब उनसे इस बारे में सवाल किया तो मंत्री ने कहा कि वह बाद में बयान जारी करेंगे. उन्होंने अपने ऊपर लगे आरोपों पर पत्रकारों के किसी सवाल का जवाब नहीं दिया. गौरतलब है कि कांग्रेस सहित विपक्ष केंद्रीय विदेश राज्यमंत्री से उनके इस्तीफे की मांग कर रहा है. एक तरफ भारतीय जनता पार्टी ने मामले में अब तक खामोशी अख्तियार कर रखी है वहीं पार्टी सूत्रों का कहना है कि उनके खिलाफ गंभीर आरोप हैं और लगता नहीं कि मंत्री के तौर पर वह लंबे समय तक पद पर रह पाएंगे. उन्होंने कहा कि अंतिम निर्णय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेना है.

पार्टी के भीतर इस तरह की भी राय है कि चूंकि उनके खिलाफ कोई कानूनी मामला नहीं है और जो आरोप उनके खिलाफ लगे हैं, वो मंत्री बनने से बहुत पहले का है. सोशल मीडिया पर मी टू अभियान के जोर पकड़ने के बीच पिछले कुछ दिनों में कई महिलाओं ने उनपर यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए हैं. बीजेपी ने मामले में चुप्पी साध रखी है, लेकिन अकबर के खिलाफ लगे आरोपों पर कोई रुख अपनाए बिना कुछ महिला मंत्रियों ने मी टू अभियान को अपना समर्थन दिया है. पार्टी के नेताओं का कहना है कि सबसे पहले अकबर को ही आरोपों पर जवाब देना है.

वहीं भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष अमित शाह का कहना है कि वह विदेश राज्यमंत्री एम.जे. अकबर पर टिप्पणी करने की स्थिति में नहीं हैं, क्योंकि केंद्रीय मंत्री के खिलाफ लगे आरोपों की जांच की जरूरत है. अकबर कई महिला पत्रकारों के यौन उत्पीड़न के आरोपों का सामना कर रहे हैं. शाह ने शुक्रवार रात ईटीवी को दिए एक इंटरव्यू में कहा- किसी चीज पर यूं ही टिप्पणी करना बहुत मुश्किल है, जो एक वेबसाइट पर छपा हो. कोई भी एक वेबसाइट पर कुछ भी डाल सकता है. इसलिए इसकी जांच की जरूरत है. चाहे वह सच हो या झूठ या फिर इस तरह की घटना हुई हो या नहीं.

उन्होंने कहा, यह देखना होगा कि क्या यह वही व्यक्ति है, जिसने आरोप लगाए हैं और जिसने इसे सोशल मीडिया पर डाला है. इन सभी चीजों को देखा जाएगा. और एक बार ऐसा करने के बाद हम इसके बारे में जरूर सोचेंगे एक दर्जन से ज्यादा महिला पत्रकारों ने अकबर पर उनके पत्रकारिता करियर के दौरान विभिन्न मौकों पर यौन उत्पीड़न और अनुचित व्यवहार के आरोप लगाए हैं. अकबर ने उस दौरान कई अखबार शुरू किए थे या उनके संपादक रहे थे.

केंद्रीय विदेश राज्यमंत्री और पूर्व संपादक एमजे अकबर के खिलाफ एक विदेशी पत्रकार ने भी आरोप लगाए हैं. पत्रकार का आरोप है कि एक मीडिया संस्थान में वर्ष 2007 में इंटर्न रहते हुए अकबर ने सीमाएं लांघते हुए यौन दुर्व्यवहार किया. महिला पत्रकार का आरोप है, ‘उन्होंने मेरी शारीरिक वर्जनाओं को लांघते हुए मेरा और मेरे माता-पिता का भरोसा तोड़ा. पीड़ित का कहना है कि उनके माता-पिता 90 के दशक में दिल्ली में बतौर विदेशी संवाददाता कार्यरत थे और वह उन्हीं के जरिए अकबर से मिली थीं.

Top Stories