Friday , November 24 2017
Home / India / भोपाल एनकाउंटर मामला: 8 में से 3 आरोपियों को कर चुका था कोर्ट बरी

भोपाल एनकाउंटर मामला: 8 में से 3 आरोपियों को कर चुका था कोर्ट बरी

PC- JKR

मध्यप्रदेश: पिछले दिनों कथित तौर पर जेल से भागे आठों सिमी कार्यकर्ताओं के एनकाउंटर मामले में जहाँ पुलिस और राज्य सरकार द्वारा दिए जा रहे तर्क खरे उतरते नजर नहीं आ रहे हैं वहीँ इस घटना को लेकर कानूनी तौर पर यह बात सामने आई है कि मारे गए आठ कैदियों में से तीन को कोर्ट ने बरी कर रखा था। कोर्ट ने इनके खिलाफ दायर मामले में दाखिल किये गए सबूतों सबूतों को भी अविश्वसनीय बताया था। बस इन्तजार था तो कोर्ट के आखिरी फैसले का जिसके बाद वो रिहा होने वाले थे।

जनसत्ता के अनुसार, 8 सिमी सदस्यों में से तीन पर लगे आरोपों और उनके खिलाफ मिले सबूतों को खांडवा कोर्ट ने अविश्वसनीय करार दिया था। जानकारी के मुताबिक करीब एक साल पहले खांडवा कोर्ट ने अकील खिलजी पर 2011 के एक मामले के लिए मध्यप्रदेश पुलिस और उस केस के जांच अधिकारी को लताड़ भी लगाई थी। इतना ही नहीं कोर्ट ने अकील खिलजी को गैरकानूनी गतिविधि कड़े अधिनियम के तहत बरी भी कर दिया था।

वहीं कोर्ट ने अजमद रमजान खान और मोहम्मद सालिख को भगोड़ा घोषित कर रखा था। कोर्ट ने पुलिस को लताड़ भी लगाई थी कि उसने जरूरी दस्तावेजों को फोरेंसिक जांच के लिए नहीं भेजा था। फिलहाल खिलजी अपने ऊपर लगे बाकी तीन केसों के लिए ट्रायल का इंतजार कर रहा था।

अब जबकि सभी कैदियों को एनकाउंटर में मार दिया गया है और जांच अभी भी चल रही है, ऐसे में इन आठों में अगर कुछ लोग निर्दोष साबित हो गए तो पुलिस और राज्य सरकार के पास जवाब देने के लिए क्या होगा?

TOPPOPULARRECENT