Wednesday , December 13 2017

भोपाल फर्जी एनकाउंटर: जमीयत उलेमा हाईकोर्ट दृष्टिकोण होगी

मुंबई: भोपाल में आठ मुस्लिम युवकों के फर्जी एनकाउंटर किए जाने के खिलाफ आज यहां जमीअत उलेमा महाराष्ट्र (अरशद मदनी) ने भोपाल हाईकोर्ट में याचिका दाखिल करने का ऐलान किया है और भीड़ के वकीलों की एक टीम जिसने भोपाल पहुंच करषालात समीक्षा उसने पुलिस से की जाने वाली इस मदभेड़ को फर्जी एनकाउंटर बताया और पुलिस की इस कार्रवाई में दर्जनों सवाल उठाए हैं। जमीयत उलेमा हिंद के अध्यक्ष मौलाना सैयद अरशद मदनी निर्देशित और सचिव कानूनी सहायता समिति गुलजार आजमी के इशारे पर पिछले दो दिनों से जमीयत उलेमा के वकीलों भोपाल में मौजूद थे इस दौरान उन्होंने भोपाल सेंट्रल जेल और फर्जी एनकाउंटर क्षेत्र का निरीक्षण भी किया तथा बचाव पक्ष के वकील परवेज आलम से मुलाकात की.सखत सुरक्षा की वजह से प्रतिनिधिमंडल को जेल के अंदर उनके बैरकों तक नहीं जाने दिया गया जहां कैदी थे।

भोपाल से मुंबई पहुंचने के बाद एडवोकेट शाहिद नदीम अंसारी ने मुंबई में पत्रकारों को बताया कि भोपाल सेंट्रल जेल से अचार जयपुर की दूरी लगभग 6 से 7 किलोमीटर है जहां 31 अक्टूबर की सुबह कथित सिमी के आठ सदस्यों को गोलियों से भून दिया गया जबकि पुलिस उन्हें जीवित पकड़ सकती थी क्योंकि आरोपियों पुलिस जवाबी कार्रवाई नहीं कर रहे थे बल्कि वह तो मदद मांग रहे थे तथा यह कैसे संभव है कि कोई भी व्यक्ति आठ घंटों में केवल 7 किमी की दूरी तय करेगा और वह भी राज्य राजमार्ग छोड़कर जंगलों और पहाड़ियों में पलायन? एडवोकेट शाहिद नदीम अंसारी ने बताया कि यह संभव ही नहीं हो सकता कि कैदी लकड़ियों की चाबियों से लोहे के तालों को बैरक खोलकर भागना चाहिए।

जेल के अंदर पुलिस के कड़े प्रबंध होता है और किसी भी कैदी की एक गतियों ोसकनात पर पुलिस की गहरी निगाह होती है तथा जेल के चारों ओर की शहरपनाह से कूदकर भागने के लिए किसी कला से कम नहीं है क्योंकि एक आई एस (ISO) ओ सामान्य स्तर की जेल की फ़सीलें बहुत ऊंची होती हैं और दीवार के चारों ओर बड़े टॉवर बने हुए हैं जिस पर 24 घंटे पुलिस का पहरा होता है और वह दूरबीन‌ से देखते रहते हैं।

TOPPOPULARRECENT