Thursday , December 14 2017

भ्रष्टाचार के आरोपी यूपी बाबू का वेतन 1 लाख रुपये है, इंडिया के टॉप वकील उनका बचाव करते हैं

लखनऊ: भारत के शीर्ष वकील- सोली सोराबजी, हरीश साल्वे, मुकुल रोहतगी और अन्य- इन में क्या समानता है? इन्होंने उत्तर प्रदेश के एक मध्य स्तर के नौकरशाह का बचाव किया है, जिस पर अरबों की संपत्ति इकट्ठा करने और कई फेक बैंक खातों को चलाने का आरोप है।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

उत्तर प्रदेश के औद्योगिक विकास निगम (यूपीएसआईडीसी) के चीफ इंजीनियर अरुण मिश्रा का बचाव पिछले तीन वर्षों से इंडिया के शीर्ष वकील कभी इलाहबाद हाई कोर्ट और कई बार सुप्रीमकोर्ट में किया है।

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार असामान्य बात यह है कि मिश्रा को सिर्फ 1 लाख रुपये ही मासिक वेतन के रूप में मिलता है, जबकि यह माना जाता है कि यह वकील एक दिन का शुल्क 5-20 लाख रूपए अपने क्लाइंट से लेते हैं।

दोहरा प्रयासों के बावजूद, मिश्रा टिप्पणी के लिए उपलब्ध नहीं थे। उनके कार्यालय में एक चपरासी ने कहा कि वह नहीं हैं और उन्होंने स्पष्ट नहीं किया कि वह कब आयेंगे।
गौरलतब है कि सीबीआइ ने 2011 में उन्हें पंजाब नेशनल बैंक, देहरादून के साथ 65 नकली बैंक खातों को चलाने के लिए गिरफ्तार किया था, जहां उन पर काला धन जमा करने का संदेह था।

2011 में, प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने दिल्ली के लुटियंस क्षेत्र में पृथ्वीराज रोड पर 300 करोड़ की उनकी संपत्ति जब्त की, उनकी अन्य कथित संपत्तियों की ईडी जांच कर रही है, बाराबंकी में कुर्सी रोड पर यूपीएसआईडीसी इंडस्ट्रियल पार्क में 60 एकड़ जमीन और दूसरे 52 एकड़ जमीन पर एशिया स्कूल ऑफ इंजीनियरिंग और मैनेजमेंट है।
अदालत के रिकॉर्ड से पता चलता है कि वह और उनके परिवार के लखनऊ के गोमती नगर में दो शानदार घर हैं, देहरादून में पांच संपत्तियां और बाराबंकी में 100 एकड़ जमीन भी है.

TOPPOPULARRECENT