Monday , December 11 2017

मक़बूल बट की बरसी, कश्मीर में हड़ताल

जम्मू-ओ-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट ( जे के एल एफ़) ने अपने बानी मुहम्मद मक़बूल बट की 28वीं बरसी के मौक़ा पर आज आम हड़ताल की जिस के नतीजा में वादी कश्मीर में आम ज़िंदगी मुतास्सिर हुई।

जम्मू-ओ-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट ( जे के एल एफ़) ने अपने बानी मुहम्मद मक़बूल बट की 28वीं बरसी के मौक़ा पर आज आम हड़ताल की जिस के नतीजा में वादी कश्मीर में आम ज़िंदगी मुतास्सिर हुई।

हुर्रियत कान्फ्रेंस के दोनों ग्रुपों ने इस हड़ताल की ताईद की जिस के नतीजा में तमाम दुक्का नात, बैंक्स और तिजारती इदारा जात बंद रहे। सरकारी ट्रांसपोर्ट ख़िदमात भी बुरी तरह मुतास्सिर हुईं ताहम ख़ानगी गाड़ियां सड़कों पर चलती नज़र आएं। पुलिस ने कहा कि जय के एल एफ़ कारकुनों के एहतिजाज के अंदेशों के पेशे नज़र एहतियाती तदाबीर के तौर पर लाल चौक इलाक़ा की नाका बंदी करदी गई थी।

मक़बूल बट को एक क़त्ल में जुर्म का मुर्तक़िब क़रार पाए जाने के बाद 1984 में आज ही के दिन फांसी पर लटकाया गया था। जे के एल एफ़ के कारकुनों ने गुज़श्ता रोज़ मैसूमा में वाक़्य अपने हेड क्वार्टर्स से सनावर में वाक़्य अक़वाम-ए-मुत्तहिदा फ़ौजी मुबस्सिरीन के मुक़ामी दफ़्तर तक जलूस निकालने की कोशिश की थी।

TOPPOPULARRECENT