Sunday , July 22 2018

मक्का मस्जिद और शाही मस्जिद के अख़्राजात के लिए हुसूल बजट में दुश्वारियां

हुकूमत की जानिब से तारीख़ी मक्का मस्जिद और शाही मस्जिद के मुलाज़मीन की तनख़्वाहें और इंतेज़ामी उमूर से मुताल्लिक़ ख़र्च को बजट में शामिल ना करने के सबब महकमा अक़लीयती बहबूद को महकमा फ़ाइनेन्स से बजट के हुसूल में दुश्वारीयों का सामना है।

बताया जाता है कि जारीया साल बजट में हुकूमत ने मन्सूबाजाती और ग़ैर मन्सूबाजाती मसारिफ़ में मक्का मस्जिद और शाही मस्जिद के अख़्राजात को शामिल नहीं किया जिसके सबब मुलाज़मीन को कई माह तक तनख़्वाहों से महरूम रहना पड़ा।

डायरेक्टर अक़लीयती बहबूद मुहम्मद जलाल उद्दीन अकबर ने दोनों मसाजिद के मुलाज़मीन की तनख़्वाहें और दीगर इंतेज़ामी उमूर की तकमील के लिए महकमा फ़ाइनेन्स को 2 करोड़ 85 लाख की इजराई के लिए तजावीज़ रवाना की हैं।

दोनों मसाजिद के मुलाज़मीन की तादाद 30 है जिनकी तनख़्वाहों पर माहाना एक लाख 77 हज़ार 520 रुपये का ख़र्च आता है। इस तरह सालाना ख़र्च 21 लाख 30 हज़ार 240 रुपये होगा।

महकमा अक़लीयती बहबूद की जानिब से हुकूमत को मख़लुवा जायदादों बाशमोल ख़तीब के ओहदा पर तक़र्रुर के इलावा मुलाज़मीन की तनख़्वाहों में इज़ाफ़ा की तजवीज़ रवाना की गई हैं।

TOPPOPULARRECENT