मक्का मस्जिद की छत को नुक़्सान से बचाने में हुकूमत की मुसलसल सर्दमोहरी

मक्का मस्जिद की छत को नुक़्सान से बचाने में हुकूमत की मुसलसल सर्दमोहरी
Click for full image

तारीख़ी मक्का मस्जिद के तहफ़्फ़ुज़ और खासतौर पर छत को नुक़्सान से बचाने के लिए महकमा अक़लीयती बहबूद की बारहा तवज्जा के बावजूद हुकूमत की सर्दमोहरी के नतीजा में गुज़िश्ता चंद दिनों की बारिश ने मस्जिद की छत को मज़ीद नुक़्सान पहुंचाया है।

गुज़िश्ता एक हफ़्ता से जारी मूसलाधार बारिश के नतीजा में मक्का मस्जिद की छत के कई हिस्सों में शिगाफ़ पड़ गए जिसके बाइस पानी अंदरूनी हिस्सा उतरने लगा है। गुज़िश्ता चंद दिनों से मक्का मस्जिद के हुक्काम भी छत की अबतर हालत को देखते हुए परेशान हैं।

उन्हें अंदेशा है कि अगर छत में पानी के दाख़िले को फ़ौरी रोका नहीं गया तो अंदरूनी हिस्सा में छत के हिस्से टूट कर गिरने लगेंगे। बारिश के आग़ाज़ के बाद मस्जिद के ज़िम्मेदारों ने महकमा अक़लीयती बहबूद को इस सूरते हाल से वाक़िफ़ कराया लेकिन हुकूमत ने बजट की इजराई पर कोई तवज्जा नहीं दी है।

वाज़ेह रहे कि 8 माह क़ब्ल डायरेक्टर अक़लीयती बहबूद जलाल उद्दीन अकबर ने महकमा आरक्योलोजी के माहिरीन के साथ मस्जिद का मुआइना किया था।

अगर हुकूमत एक करोड़ रुपये तनख़्वाहों के लिए जारी करती है तो इस में से 18 लाख रुपये अक़लीयती फाइनेंस कारपोरेशन का क़र्ज़ वापिस करना है जोकि तनख़्वाहों की अदायगी के लिए हासिल किया गया था।

Top Stories