Monday , February 26 2018

मगरिबी सोच की वजह से होता है ‘रेप’

चेन्नई, 09 मार्च: बीजेपी के सीनीयर लीडर मुरली मनोहर जोशी ने कहा है कि मगरिबी नजरिया ही ख़्वातीन की आबरूरेज़ि की अहम वजह है। यही नहीं ख़्वातीन को मर्दों के मुकाबले कम आंकना हिंदुस्तानी फिलाशफी (Indian philosophy)के खिलाफ है। मगरिबी और हिंदुस्तान

चेन्नई, 09 मार्च: बीजेपी के सीनीयर लीडर मुरली मनोहर जोशी ने कहा है कि मगरिबी नजरिया ही ख़्वातीन की आबरूरेज़ि की अहम वजह है। यही नहीं ख़्वातीन को मर्दों के मुकाबले कम आंकना हिंदुस्तानी फिलाशफी (Indian philosophy)के खिलाफ है। मगरिबी और हिंदुस्तानी फिलाशफी में फर्क यही है कि एक जहां उन्हें कमजोर मानता है, वहीं हम उन्हें सबकी मां मानते हैं।

‘डेंटेड एंड पेंटेड बियांड फ्लेश’ नाम की किताब की रस्मे इजरा करते हुए जोशी ने कहा कि चूंकि मगरिब के लोग उन्हें कमजोर मानते हैं इसलिए उनकी आब्रूरेज़ि करते हैं। वहीं हम उन्हें मां मानने की वजह से उनकी इबादत करते हैं।

उन्होंने कहा कि हमारे फिलाशफी में ख्वातीन को कभी मर्दों के मुकाबले कमजोर नहीं माना गया है। ख़्वाती महज जिस्म नहीं हैं बल्कि उनके पास भी अपना एक दिमाग, अक्ल और ज़ात होती है और सबसे बढ़कर वह एक मां है।

TOPPOPULARRECENT