Friday , January 19 2018

मजलिसी लीडर के ख़िलाफ़ दिल्ली पुलिस से शबनम हाश्मी की शिकायत

नई दिल्ली। 03 जनवरी: गुजरात मुस्लिम कश फ़सादाद के मुतास्सिरीन की बरवक़्त इमदाद करने और मुल्क भर की जेलों में महरूस मुस्लिम नौजवानों की रिहाई के लिए जद्द-ओ-जहद करनेवाली मुमताज़ समाजी कारकुन मुहतरमा शबन‌म हाश्मी ने दिल्ली में अकबर उद्

नई दिल्ली। 03 जनवरी: गुजरात मुस्लिम कश फ़सादाद के मुतास्सिरीन की बरवक़्त इमदाद करने और मुल्क भर की जेलों में महरूस मुस्लिम नौजवानों की रिहाई के लिए जद्द-ओ-जहद करनेवाली मुमताज़ समाजी कारकुन मुहतरमा शबन‌म हाश्मी ने दिल्ली में अकबर उद्दीन उवेसी के ख़िलाफ़ पुलिस में शिकायत दर्ज करवाते हुए उन के ख़िलाफ़-ए-दस्तूर की दफ़ा 153A के तहत कार्रवाई का मुतालिबा किया।

शबनम हाश्मी ने डिप्टी कमिशनर आफ़ पुलिस पार्लीमैंट स्टरीट को रवाना करदा तहरीरी शिकायत में यू टयूब पर मौजूद अकबर उद्दीन उवेसी की तक़रीर का हवाला देते हुए कहा कि इस तक़रीर को यू टयूब और फेसबुक के ज़रीये फैलाया जा रहा है जिस में अकबर उद्दीन उवेसी ने कई काबिल एतराज़ जुमले अदा किए हैं।

शबनम हाश्मी जो कि पिछ्ले चंद यौम पहले गुजरात में नरेंद्र मोदी की कामयाबी के लिए कांग्रेस को मौरिद इल्ज़ाम ठहराते हुए क़ौमी सतह की कई एजैंसीयों की रुकनीयत से मुस्ताफ़ी होगई थीं ज़िला आदिलबाद के मौज़ा निर्मल में 24 दिसमबर को की गई अकबर उवेसी की तक़रीर को इश्तिआल अंगेज़ क़रार देते हुए तहरीरी शिकायत में ये अदा-ए-किया कि मुकम्मल तक़रीर क़ाबिल एतराज़ है और अक्सरीयती तबक़ा के जज़बात के अलावा हिन्दुस्तानी अवाम के तहज़ीबी विरसा को ठेस पहुंचाने के मुतरादिफ़ है।

उन्हों ने पार्लीमैंट स्टरीट पुलिस स्टेशन के ज़िम्मेदारों से ख़ाहिश की के वो फ़ौरी तौर पर उन की शिकायत पर कार्रवाई करते हुए अकबर उद्दीन उवेसी के ख़िलाफ़-ए-दस्तूर हिंद की दफ़ा 153A के तहत मुक़द्दमा दर्ज करें चूँके ये एक इंतिहाई संगीन मसला है जो कि मुल्क की सालमीयत के लिए ख़तरह साबित होसकता है।

उन्हों ने इस तरह की तक़ारीर को नाक़ाबिल-ए-बर्दाश्त क़रार देते हुए कहा कि मुल्क के किसी भी हिस्से में अगर फ़िर्कावाराना मुनाफ़िरत पैदा करने की कोशिश की जाती है तो वो उसे रोकना अपना फ़र्ज़ समझती हैं। शबनम हाश्मी ने अकबर उवेसी की तक़रीर को फ़िर्कावाराना यकजहती के लिए ख़तरह क़रार देते हुए उन के ख़िलाफ़ मुक़द्दमा दर्ज करने की ख़ाहिश की और बताया कि मज़कूरा तक़रीर दस्तूर हिंद की संगीन ख़िलाफ़वरज़ी है।

मुहतरमा शबनम हाश्मी पिछ्ले 6 माह से गुजरात में क़ियाम करते हुए फिरका परस्त कुव्वतों के ख़िलाफ़ मुहिम में मसरूफ़ थीं और इस दौरान उन्हों ने कई अहम समाजी कारकुनों बिशमोल मलीका सारा भाई के हमराह मुख़ालिफ़ मोदी तहरीक चलाते हुए प्रोग्राम्स मुनाक़िद किए।

शबनम हाश्मी ने वज़ीर-ए-आज़म डाक्टर मनमोहन सिंह की तरफ से दी गई दावत को क़बूल करने से इनकार करते हुए बाज़ाबता उन्हें मकतूब रवाना किया था कि जब तक हिन्दुस्तान की जेलों में बेक़सूर मुस्लिम नौजवान सिसकते रहेंगे उस वक़्त तक वो उन की दावतों का हिस्सा नहीं बिन सकतीं।

TOPPOPULARRECENT