Wednesday , December 13 2017

मदरसा बोर्ड के क़ियाम की तजवीज़ तनाज़ा का शिकार

हैदराबाद 23 मई ( सियासत न्यूज़) हुकूमत की जानिब से आंध्र प्रदेश के दीनी मदारिस में असरी तालीम को राइज करने के लिए मदरसा बोर्ड के क़ियाम की तजवीज़ तनाज़ा का शिकार होचुकी है।

हैदराबाद 23 मई ( सियासत न्यूज़) हुकूमत की जानिब से आंध्र प्रदेश के दीनी मदारिस में असरी तालीम को राइज करने के लिए मदरसा बोर्ड के क़ियाम की तजवीज़ तनाज़ा का शिकार होचुकी है।

रियास्ती असेंबली और क़ानूनसाज़ कौंसल की वीलफ़ीर से मुताल्लिक़ स्टैंडिंग कमेटी के इजलास में प्रिंसिपल सेक्रेट्री अक़ल्लीयती बहबूद जय रेमंड पीटर ने तजवीज़ पेश की थी.

कि उत्तर प्रदेश और बिहार की तरह आंध्र प्रदेश में भी मदरसा बोर्ड क़ायम किया जाये जिस के तहत दीनी मदारिस में साईंस, मैथमैटिक्स और अंग्रेज़ी की तालीम दी जाये।

मदरसा बोर्ड के इम्तेहान को सरकारी ऐस एस सी के मुमासिल(बराबर) क़रार देने की भी उन्हों ने तजवीज़ पेश की थी। स्टैंडिंग कमेटी के इजलास में बताया जाता है कि अरकान ने भी इस तजवीज़ से इत्तिफ़ाक़ किया था ताकि दीनी मदारिस के तलबा को असरी तालीम से आरास्ता किया जा सके।

ताहम दीनी मदारिस बोर्ड और उल्मा किराम ने हुकूमत की जानिब से मदरसा बोर्ड के क़ियाम की शिद्दत से मुख़ालिफ़त की है। मुस्लिम पर्सनल ला बोर्ड और दीनी मदरसा बोर्ड के क़ाइदीन ने सरकारी मदरसा बोर्ड को नाक़ाबिल-ए-क़बूल क़रार दिया।

इसी दौरान बावसूक़ ज़राए ने बताया कि वीलफ़ीर से मुताल्लिक़ स्टैंडिंग कमेटी अपनी क़तई रिपोर्ट में मदरसा बोर्ड की तजवीज़ को शामिल नहीं करेगी क्योंकि ये मसला तनाज़ा का शिकार होचुका है।

वाजेह रहे कि इस से क़बल हुकूमत की दोपहर की खाने की स्कीम ( मिड डे मेल) की दीनी मदारिस में अमल आवरी के मसला पर भी इख़तिलाफ़ राय पैदा हुआ था.
ताहम दीनी मदारिस के एक गोशा ने हुकूमत की इस स्कीम को क़बूल करलिया जबकि मदारिस की एक बड़ी तादाद आज भी इस स्कीम को क़बूल नहीं कररही है।

TOPPOPULARRECENT