Monday , December 11 2017

मदरसों को हक़ तालीम क़ानून से दूर रखना ज़रूरी: दिग् विजय सिंह

नई दिल्ली १४ दिसम्बर: (एजेंसीज़) कांग्रेस लीडर दिग् विजय सिंह की ज़ेर क़ियादत कांग्रेस क़ाइदीन के वफ़द ने वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह पर ज़ोर दिया कि वो मुस्लमानों के दीनी मदरसों को हक़ तालीम क़ानून से इस्तिस्ना दिया जाये।

नई दिल्ली १४ दिसम्बर: (एजेंसीज़) कांग्रेस लीडर दिग् विजय सिंह की ज़ेर क़ियादत कांग्रेस क़ाइदीन के वफ़द ने वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह पर ज़ोर दिया कि वो मुस्लमानों के दीनी मदरसों को हक़ तालीम क़ानून से इस्तिस्ना दिया जाये।

इस ख़सूस में मुस्लिम पर्सनल बोर्ड और उल्मा ने वज़ारत फ़रोग़ इंसानी वसाइल को कई नुमाइंदगीयाँ पेश की हैं। इस के इलावा अगर मदरसों को हक़ तालीम क़ानून के दायरा कार में लाया गया तो मुल्क गीर एहतिजाज करने की धमकी दी गई है।

दिग विजय सिंह ने कहा कि हक़ तालीम क़ानून के तहत बाअज़ मसाइल हैं, निसाब की तैय्यारी और दीगर बातों में तनाज़आत पाए जाते हैं। इस वफ़द ने वज़ीर-ए-आज़म से ये भी दरख़ास्त की कि मुदर्रिसा असातिज़ा की तनख़्वाहें जारी की जाये।

मनमोहन सिंह जब वज़ीर फ़ीनानस थे जब से ही मदरसों को असरी बनाने का प्रोग्राम शुरू किया गया है। असातिज़ा को गुज़श्ता दो तीन साल से तनख़्वाहें अदा नहीं की गई हैं। वज़ीर फ़रोग़ इंसानी वसाइल से हमारी मुलाक़ातों के बावजूद ये मसला हल नहीं हुआ है।

TOPPOPULARRECENT