Saturday , February 24 2018

मनीपुर की पहाड़ी पर आतिश फ़िशानी मुक़ामी अफ़राद महफ़ूज़ मुक़ामात को फ़रार

मनीपुर की पहाड़ी पर हिंद- मयांमार सरहद के करीब आतिश फ़िशां पहाड़ फट पड़ने के मानिंद वाक़िये से दहशत ज़दा मुक़ामी अफ़राद अपने इलाक़े का तख़लिया करने पर मजबूर होगए। तोसाम देहात ज़िला ओकरोल के मुक़ामी शहरियों ने कहा कि बहरी करदेने वाली इंति

मनीपुर की पहाड़ी पर हिंद- मयांमार सरहद के करीब आतिश फ़िशां पहाड़ फट पड़ने के मानिंद वाक़िये से दहशत ज़दा मुक़ामी अफ़राद अपने इलाक़े का तख़लिया करने पर मजबूर होगए। तोसाम देहात ज़िला ओकरोल के मुक़ामी शहरियों ने कहा कि बहरी करदेने वाली इंतिहाई ज़ोरदार आवाज़ के बाद बड़े बड़े पत्थरों के पहाड़ी से लुढ़कने की आवाज़ें आने लगीं और लावा जैसा स्याल पहाड़ी की ढलानों पर बहता हुआ देखा गया।

हालाँकि इस वाक़िये की इत्तेला 13 अक्टूबर को दी गई थी, लेकिन ज़िला हेड क्वार्टर्स और तोसाम के दरमियान सड़क के ज़रीया राबिता इतना मुश्किल था कि देहातियों को ये इत्तेला मुताल्लिक़ा सरकारी ओहदेदारों को देने के लिए कई दिन लग गए। ज़िला हेड क्वार्टर्स देहात से 120 किलोमीटर के फ़ासिले पर है। किसी हलाकत की कोई इत्तिला नहीं मिली। सरकारी इत्तिलाआत के बमूजब मिट्टी, पानी और दीगर स्याल माद्दे पहाड़ी की चोटी से बह कर नीचे आरहे थे जिस की वजह से मुक़ामी अवाम पड़ोसी महफ़ूज़ देहातों को मुंतक़िल हो गए। अभी इस इत्तेला की तौसीक़ नहीं हो सकी कि क्या ये आतिश फ़िशां पहाड़ फटने का वाक़िया था?

TOPPOPULARRECENT