Monday , December 18 2017

मनीपुर से मुतनाज़ा AFSPA को बर्ख़ास्त कर दिया जाएगा

इम्फाल, २१ जनवरी (पी टी आई) हुक्मराँ कांग्रेस जमात ने ये अज़म कर रखा है कि मनीपुर में ला ऐंड आर्डर की सूरत-ए-हाल में बहर क़ीमत बेहतरी लाई जाएगी और मुतनाज़ा मुसल्लह अफ़्वाज केलिए ख़ुसूसी इख़्तेयारात क़ानून (AFSPA) को बर्ख़ास्त करदिया जाएगा

इम्फाल, २१ जनवरी (पी टी आई) हुक्मराँ कांग्रेस जमात ने ये अज़म कर रखा है कि मनीपुर में ला ऐंड आर्डर की सूरत-ए-हाल में बहर क़ीमत बेहतरी लाई जाएगी और मुतनाज़ा मुसल्लह अफ़्वाज केलिए ख़ुसूसी इख़्तेयारात क़ानून (AFSPA) को बर्ख़ास्त करदिया जाएगा।

बशर्ते कि असेंबली इंतेख़ाबात में पार्टी को कामयाबी हासिल हो और वो एक बार फिर मस्नद इक़तिदार पर बिराजमान हो जाए। कांग्रेस भवन में पार्टी का मंशूर जारी करते हुए मनीपुर प्रदेश कांग्रेस कमेटी (MPCC) के सदर गाइख नगम ने वज़ीर-ए-आला इबोबी सिंह की मौजूदगी में ये बात कही कि रियासत के अवाम चूँकि AFSPA से पीछा छुड़ाने के ख़ाहां हैं, लिहाज़ा अवाम के जज़बात का ख़्याल रखते हुए उन्हें तीक़न देता हूँ कि पार्टी के बरसर-ए‍इक़तेदार आने पर ये मुतनाज़ा क़ानून बर्ख़ास्त हो जाएगा।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी इत्तेहाद, अमन, इस्तेहकाम और तरक़्क़ी की अलमबरदार है और तरक़्क़ीयाती कामों का सिलसिला आगे भी जारी रहेगा। गाइखनगम के बाद वज़ीर-ए-आला इबोबी सिंह ने अपने खेताब के दौरान कहा कि पार्टी के जिन उम्मीदवारों को अस्करीयत पसंदों ने धमकीयां दी हैं, तो कहना बजा ना होगा

कि उम्मीदवार ऐसे गीदड़ भपकीयों से ख़ौफ़ज़दा होने वाले नहीं बल्कि हुकूमत के तरक़्क़ीयाती कामों की बुनियाद पर इंतेख़ाबात लड़ने के अपने फ़ैसले पर क़ायम-ओ-दाइम रहेंगे। गुज़शता एक दहिय में हुकूमत ने मुतअद्दिद तरक़्क़ीयाती काम किए हैं जिन का अवाम को बख़ूबी इल्म है और जमहूरीयत में चूँकि अवाम एहमीयत के हामिल होते हैं लिहाज़ा अवाम की ख़ातिर उम्मीदवार अस्करीयत पसंदों की धमकीयों की परवाह भी नहीं कर रहे हैं।

उन्हों ने कहा कि लोक आयुक़्त को मुस्तहकम करते हुए रियासत की सरहदी सालमीयत की भी हिफ़ाज़त की जाएगी। सड़क राबिता से मुताल्लिक़ पूछे जाने पर वज़ीर-ए-आला ने बताया कि उन्हें ये कहते हुए फ़ख़र महसूस हो रहा है कि दूरदराज़ के देहातों में भी सड़कों की हालत में काफ़ी बेहतरी आई है और रियासत के पहाड़ी अज़ला में भी सड़कों के राबतों को बेहतर बनाया जाएगा। हुकूमत ने क़ौमी शाहराहें यानी नंबर 39 और नंबर 53 को बेहतर बनाने इक़दामात शुरू कर दिए हैं।

TOPPOPULARRECENT