मरीख सेटेलाइट की कामयाबी से मेकन और एचइसी भी मुंसलिक

मरीख सेटेलाइट की कामयाबी से मेकन और एचइसी भी मुंसलिक
मरीख सेटेलाइट की कामयाबी से झारखंड के मेकन और एचइसी का नाम भी मुंसलिक है। जिस लॉन्चिंग पैड से मरीख सेटेलाइट को खुला में भेजा गया था, उसका तामीर रांची में ही किया गया। मेकन ने इसकी तामीर का वर्किंग ऑर्डर हासिल करने के बाद एचइसी में इ

मरीख सेटेलाइट की कामयाबी से झारखंड के मेकन और एचइसी का नाम भी मुंसलिक है। जिस लॉन्चिंग पैड से मरीख सेटेलाइट को खुला में भेजा गया था, उसका तामीर रांची में ही किया गया। मेकन ने इसकी तामीर का वर्किंग ऑर्डर हासिल करने के बाद एचइसी में इसकी तामीर कराया। एचइसी ने इस लॉन्चिंग पैड के ऊपर लगने वाले क्रेन का भी तामीर किया था। इसे श्रीहरिकोटा में सतीश धवन खुलाई मरकज़ में लगाया गया।

इस लॉन्चिंग पैड से पहली बार खुला सेटेलाइट पीएसएलवी- 6 का प्रोजेक्शन मई 2005 में किया गया था। मंगलयान की कामयाबी मरीख की सेंटर में कायम होने पर मेकन और एचइसी के अफसरों में भी खुसी का माहौल है। मेकन जब इस लॉन्चिंग पैड की तामीर एचइसी में करा रहा था उस वक़्त इसरो के साइंसदानों ने एचइसी का दौरा किया था। इसी दौरान वहां के साइंसदानों ने एचइसी की सलाहियत पहचानी और इसके बाद एचइसी को कई और काम भी मिले।

शुरू में इसरो ने छोटे आलात की तामीर का वर्किंग ऑर्डर दिया। इसकी कामयाबी के बाद एचइसी ने एक बड़ा लॉन्चिंग पैड की तामीर वक़्त के अंदर किया। तीसरे लॉन्चिंग पैड की तामीर का काम एचइसी में चल रहा है।

Top Stories