Tuesday , December 12 2017

मर्कज़ी मुलाज़मीन के गिरानी (मंहगाई) एलाउंस में 7 फ़ीसद इज़ाफ़ा का इमकान

नई दिल्ली, २१ सितंबर (पी टी आई) डीज़ल की क़ीमत और इफ़रात‍ ए‍ ज़र की शरह ( दर) में ग़ैरमामूली इज़ाफ़ा के असरात के पेशे नज़र मर्कज़ी हुकूमत ( केंद्र सरकार) के तक़रीबन 80 लाख मुलाज़मीन ( सेवक) और वज़ीफ़ा याबों को बहुत जल्द गिरानी एलाउंस में 7 फ़ीसद इज़

नई दिल्ली, २१ सितंबर (पी टी आई) डीज़ल की क़ीमत और इफ़रात‍ ए‍ ज़र की शरह ( दर) में ग़ैरमामूली इज़ाफ़ा के असरात के पेशे नज़र मर्कज़ी हुकूमत ( केंद्र सरकार) के तक़रीबन 80 लाख मुलाज़मीन ( सेवक) और वज़ीफ़ा याबों को बहुत जल्द गिरानी एलाउंस में 7 फ़ीसद इज़ाफ़ा किया जाएगा।

मौजूदा गिरानी एलाउंस 65 फ़ीसद को बढ़ाकर 72 फ़ीसद करने की तजवीज़ (प्रस्ताव) कल मर्कज़ी काबीना ( केंद्रीय मंत्रीमंडल) में पेश की जाने वाली थी लेकिन काबीनी कमेटी ( Cabinet Committee) बराए मआशी उमोर और काबीनी कमेटी बराए इनफ़रास्ट्रक्चर के जुमा को मुनाक़िद शुदणी इजलास ( आयोजित सभा) मुल्तवी ( रद्द) कर दिए गए हैं।

आम तौर पर काबीना का इजलास जुमेरात को मुनाक़िद ( आयोजित) किया जाता है लेकिन हुकूमत के हालिया फ़ैसलों और इस के बाद तेज़ी से तबदील होने वाले सयासी हालात की बिना ये इजलास मुल्तवी कर दिया गया है। ज़राए ने बताया कि इस फ़ैसले से 50 लाख मर्कज़ी सरकारी मुलाज़मीन और 30 लाख वज़ीफ़ा याबों को फ़ायदा पहूंचेगा।

हुकूमत ने हाल ही में डीज़ल की क़ीमत में फ़ी ( प्रति) लीटर 5 रुपय का इज़ाफ़ा किया है और रीटेल शोबा में इफ़रात-ए-ज़र की शरह ( दर) बढ़ कर दो हिन्दसी अदद तक जा पहूँची है। अगर मर्कज़ी काबीना गिरानी एलाउंस ( मँहगाई भत्ता) में 7 फ़ीसद इज़ाफ़ा को मंज़ूरी देती है तो यक्म जुलाई 2012 से इस पर अमल होगा और मुलाज़मीन उस तारीख़ से बक़ायाजात के हक़दार होंगे।

अगर हुकूमत ने जारीया साल मार्च में गिरानी एलाउंस में आख़िरी बार इज़ाफ़ा किया था और 58 फ़ीसद से बढ़ाकर उसे 65 फ़ीसद किया गया है। इस इज़ाफ़ी गिरानी एलाउंस पर यक्म जनवरी 2012 से अमल दरआमद ( आयातित) किया गया। हुकूमत गिरानी एलाउंस में वक़फ़ा वक़फ़ा से इज़ाफ़ा क्या करती है और ये सनअती ( अद्योगिक) वर्कर्स के लिए सारिफ़ीन क़ीमत ईशारीया (सी पी आई) से मरबूत (संबंधित) है।

कनज़्यूमर प्राइस इंडेक्स (सी पी आई) अगस्त में 10.03 फ़ीसद तक जा पहुंचा है, जबकि एक माह क़बल जुलाई में ये 9.86 फ़ीसद था।

TOPPOPULARRECENT