Saturday , December 16 2017

मर्ज़ निमोनिया के बारे में इंडियन एकेडेमी आफ़ पेडियाट्रिक्स की बेदारी मुहिम

आलमी यौम निमोनिया के मौक़ा पर इंडियन एकेडेमी आफ़ पेडियाट्रिक्स की जानिब से इस मर्ज़ के बारे में बेदारी पैदा करने और इस के तदारुक(खतम) के लिये एक मुहिम में हिस्सा लिया गया ।

आलमी यौम निमोनिया के मौक़ा पर इंडियन एकेडेमी आफ़ पेडियाट्रिक्स की जानिब से इस मर्ज़ के बारे में बेदारी पैदा करने और इस के तदारुक(खतम) के लिये एक मुहिम में हिस्सा लिया गया ।

यहां एक प्रेस कान्फ़्रैंस से मुख़ातब करते हुए डाक्टर संजय इंडियन असोसी एष्ण आफ़ पेडियाट्रिक्स, डाक्टर पी सुदर्शन रेड्डी साबिक़ सुपरंटंडनट नीलोफर हॉस्पिटल हैदराबाद डाक्टर वेंकटेश्वर राव सदर इंडियन एसोसी एष्ण आफ़ पेडियाट्रिक्स ने कहा कि निमोनिया को खांसी और सांस में कमी से पहचाना जा सकता है ।

डॉक्टर्स ने बताया कि निमोनिया एक तनफ़सी(सांस का) मर्ज़ है जिस में फेफड़े मुतास्सिर होते हैं । इस मुहिम के बारे में बताते हुए डाक्टर पी सुदर्शन रेड्डी ने कहा कि सेनोटू निमोनिया मुहिम के ज़रीया वो पैरंट्स , हेलत केयर प्रोफेशनल्स और पालिसी मेकर्स में बेदारी पैदा करेंगे ताकि इस का तदारुक हो और बच्चों को इस से महफ़ूज़ रखा जा सके।

TOPPOPULARRECENT