Thursday , June 21 2018

मलाला को अहमीयत, आफ़ीया सिद्दीक़ी नज़रअंदाज !

ईस्लामाबाद, 17 जुलाई (एजेंसी ) पाकिस्तानी तालेबा यूसुफ़ज़ई मलाला को मग़रिबी मीडीया की जानिब से नुमायां तौर पर पेश किया जा रहा है । दो दिन क़ब्ल अक़वाम-ए-मुत्तहिदा के इजलास से मलाला के ख़िताब को भी काफ़ी कवरेज दिया गया जिसमें उन्होंने ल

ईस्लामाबाद, 17 जुलाई (एजेंसी ) पाकिस्तानी तालेबा यूसुफ़ज़ई मलाला को मग़रिबी मीडीया की जानिब से नुमायां तौर पर पेश किया जा रहा है । दो दिन क़ब्ल अक़वाम-ए-मुत्तहिदा के इजलास से मलाला के ख़िताब को भी काफ़ी कवरेज दिया गया जिसमें उन्होंने लड़कीयों की तालीम की अहमीयत को उजागर किया था लेकिन इसी मीडीया ने पाकिस्तान की एक और डाक्टर आफ़ीया सिद्दीक़ी को दानिस्ता तौर पर नज़रअंदाज कर दिया है जिसका अग़वा किया गया था ।

मीडीया की इस दोरुख़ी पालिसी का सबब क्या है ये तो वही जाने लेकिन पाकिस्तान में हर तरफ़ ये चर्चे आम हैं। पाकिस्तानी तालेबा मलाला को नुमायां तौर पर अहमीयत देना और आफ़ीया सिद्दीक़ी को नज़रअंदाज करना दरअसल ग़ैर दियानतदाराना सहाफ़त के इलावा कुछ नहीं । दोनों तातेबात की यकसाँ ख़ुसूसीयत यही है कि वो पाकिस्तान से ताल्लुक़ रखती हैं लेकिन एक ने तालीम के लिए आवाज़ उठाई तो तालिबान ने उसे निशाना बनाया लेकिन दूसरी तरफ़ एक और तालेबा जिस ने पी एच डी की हैं और जिस के पास 144 एज़ाज़ी डिग्रियां हैं। वो क़ुरआन की हाफ़िज़ा है और एक आलिमा है ।

इन तमाम ख़ुसूसीयात के बावजूद उस लड़की पर अलक़ायदा से रवाबित ( राबिते) का इल्ज़ाम है। उसे एफ़ बी आई की मतलूबा फ़हरिस्त में शामिल किया गया था । अमेरीका में तालीम हासिल करने के बाद वो 2003 में पाकिस्तान वापस हुई लेकिन अचानक लापता हो गई थी ।

आफ़ीया सिद्दीक़ी को फिर अफ़्ग़ानिस्तान के गज़नी इलाक़ा में गिरफ़्तार किया गया था और इस पर मुक़द्दमात चलाए गए । 18 माह तक हिरासत में रखने के बाद 2010 में उसे जेल की सज़ा सुनाई गई । बताया जाता है कि आफ़ीया सिद्दीक़ी और इस के तीन बच्चों का कराची से एफ़ बी आई ने अग़वा किया और फिर गिरफ़्तारी का एक ड्रामा रचा गया ।

इस वक़्त आफ़ीया सिद्दीक़ी अमेरीका की जेल में है और अज़ीयत की वजह से वो अपनी याददाश्त खो बैठी है । अफ़सोसनाक पहलू ये भी है कि उसे मर्दों के साथ जेल में रखा गया है । मीडीया की ये ज़िम्मेदारी है कि मलाला की बहादुरी के साथ साथ ऐसे ज़ुल्म का शिकार लड़कीयों को इंसाफ़ के लिए आवाज़ उठाए |

TOPPOPULARRECENT