Tuesday , November 21 2017
Home / Islami Duniya / मलाला यूसफज़ई के आपदा प्रभावित जिले में सऊदी अरब ने दुबारा बहाल की जिंदगी

मलाला यूसफज़ई के आपदा प्रभावित जिले में सऊदी अरब ने दुबारा बहाल की जिंदगी

स्वात: पाकिस्तान के उत्तर पश्चिम में स्थित स्वात घाटी के आवासीय अपने क्षेत्र में संरचना की पुनर्विकास के लिए मूल्यवान सहायता देने पर सऊदी नेतृत्व का आभारी हैं।नोबेल शांति पुरस्कार पाने वाली कम उम्र मलाला युसुफ़ज़ई का संबंध भी खैबर पख्तूनख्वा प्रांत के इसी जिले स्वात से है. इस क्षेत्र का ढाँचा तालिबानी लड़ाकों की विध्वंसक गतिविधियों, उनके खिलाफ युद्ध और प्राकृतिक आपदाओं के कारण नष्ट हो कर रह गया था।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

सऊदी विकास फंड (एसडीएफ) की ओर से स्वात में बुनियादी समुदाय के इंफ्रास्ट्रक्चर की 639 योजनाओं को पूरा किया गया है और उनसे अब इस जिले के आठ लाख से अधिक आवासीय लाभ उठा रहे हैं।

एस डी एफ ने संयुक्त राष्ट्र के विकास कार्यक्रम (यूएनडीपी) को 1 करोड़ 16 लाख 67 हज़ार डालर की राशि दी थी, राशि से जिले के छह क्षेत्रों बाबू ज़ई, चारबाग, काबुल, ख़ूज़ा खीलह, मट्टा सबोजनी और मट्टा खाराराई में संपर्क सड़कें, गलियां, छोटे पुल और निकासी सेवा और जल निकासी योजनाएं पूरी की गई हैं।स्वात में लगभग एक दहाई पहले आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई और बाद में वर्ष 2010 में बाढ़ के कारण ढाँचा नष्ट होकर रह गया था। बाढ़ के कारण पाकिस्तान के उत्तर पश्चिमी क्षेत्रों में लगभग दो हज़ार लोग मारे गए और साठ लाख से अधिक बेघर हो गए थे। स्वात घाटी बाढ़ से सबसे ज्यादा प्रभावित हुई थी।

अल अरबिया डॉट नेट के अनुसार बाबुज़ई तहसील से संबंध रखने वाले एक साठ वर्षीय किसान वाहिद ज़ादा ने बताया कि बाढ़ से उनके गांव और निकट स्थित शहर को जोड़ने वाली एकमात्र राजमार्ग ढह गई थी, जिस से हमारे गांव के हजारों निवासियों का शहर से संपर्क टूट गया था।उन्होंने कहा कि मेरे गांव के अधिकांश निवासी कृषि पर निर्भर है. कोई सड़क न होने की वजह से हम अपने उपजाए अनाज को शहर में नहीं ले जा पाते थे. हमारे अनाज घरों ही में पड़े पड़े खराब हो जाती थी, क्योंकि हम उन्हें समय पर बाजार में नहीं ले जा पाते थे।वाहिद जादा का कहना था कि हमारे बच्चे स्कूलों में नहीं जा रहे थे और हम बीमारों को अस्पतालों में नहीं पहुंचा सकते थे। हम बाकी दुनिया से पूरी तरह कट कर रह गए थे। उनके दोस्त को समय पर अस्पताल नहीं पहुंचाया जा सका था और इस वजह से उसका निधन हो गया था।

एक सोलह वर्षीय छात्रा रजिया बीबी ने सड़क टूट जाने के बाद अपनी शिक्षा अधूरी छोड़ दी थी क्योंकि वह मुश्किल गुज़ार पहाड़ी रास्तों से रोजाना पैदल स्कूल नहीं जा सकती थी। उनका कहना था कि ” यह सोच भी नहीं सकती थी कि केवल सड़क और पुलों के टूट जाने से हमारे जीवन पूरी तरह बदलकर रह जाएगी।

सऊदी सहायता से इंफ्रास्ट्रक्चर परियोजनाओं की निगरानी पर तैनात एक इंजीनियर मोहम्मद इमरान ने बताया है कि इन योजनाओं ने वास्तव में स्वात घाटी में रहने वाले आम लोगों के जीवन को बदलकर रख दिया है।

किसान वाहिद जादा का कहना था कि ” मैं सऊदी शाह को दोनों हाथों से सलाम करता हूँ. उन्होंने हमारे अपने लोगों से ज्यादा मदद की है. सवात के हजारों लोग वास्तविक भाईचारे का हक़ अदा करने पर सऊदी राज्य के एहसानमंद हैं। ‘

TOPPOPULARRECENT