Wednesday , December 13 2017

मलाला यूसुफजाई ने ऑक्सफोर्ड में अपना पहला लेक्चर किया अटेंड

नई दिल्ली: लड़कियों के शिक्षा के प्रचार के लिए तालिबान द्वारा गोली मारकर पांच साल बाद, मलाला यूसुफजई ने ऑक्सफ़ोर्ड विश्वविद्यालय में सोमवार को अपना पहला लेक्चर अटेंड किया।

उन्होंने ऑक्सफोर्ड में अपने पहले लेक्चर के बारे में सूचित करने के लिए ट्विटर पर एक ट्वीट भी किया।

उन्होंने ट्वीट किया, “5 साल पहले, मुझे लड़कियों की शिक्षा के लिए बाहर बोलने से रोकने के प्रयास में गोली मार दी गई थी, आज मैं ऑक्सफोर्ड में अपने पहले लेक्चर को अटेंड कर रही हूँ।”

पाकिस्तान की नोबेल शांति पुरस्कार विजेता मलाला ने दुनिया भर में लड़कियों के लिए लड़ने के लिए कई साल बिताए हैं और उन्हें स्कूल जाना है और अब वे प्रतिष्ठित ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी में पढ़ रही हैं।

यूसुफजाई 2014 में सबसे कम उम्र की नोबेल पुरस्कार विजेता बन गई, जब वह शिक्षा के लिए सभी बच्चों के अधिकार की वकालत के लिए जानीं गयीं। उनके अभियान ने स्वात में उनके घर के पास तालिबान ने उनकी हत्या करने कोशिश की, जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गयी थी। वह मेडिकल ट्रीटमेंट के लिए ब्रिटेन गयी थी।

शांति के सबसे कम उम्र के संयुक्त राष्ट्र मैसेन्जर होने के नाते, मलाला ऑक्सफोर्ड में प्रतिष्ठित फिलोसोफी, राजनीति और इकोनॉमिक्स की डिग्री लेंगी।

2012 में स्कूल से घर लौटने के दौरान, पाकिस्तान के तालिबान ने उन्हें सिर और गर्दन में गोली मार दी थी।

उसके बाद से उन्होंने लड़कियों की शिक्षा के लिए प्रचार और वकालत के लिए उनको बहुत प्रशंसा मिली है। वह दुनिया के सबसे प्रसिद्ध नेताओं की लीग में शामिल हो गए जिन्होंने ऑक्सफोर्ड में दर्शनशास्त्र, राजनीति और अर्थशास्त्र की डिग्री का अध्ययन किया, जिसमें पूर्व पाकिस्तानी राष्ट्रपति बेनजीर भुट्टो, पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बिल क्लिंटन, पूर्व ब्रिटिश प्रधानमंत्री डेविड कैमरन और म्यांमार ओंग सान सू की नेता शामिल थे।

TOPPOPULARRECENT