Friday , December 15 2017

मलिका शेरावत उर्यां डांस मुआमले पर सुप्रीम कोर्ट का रोक‌

सुप्रीम कोर्ट ने कल‌ बाली वुड ऐक्ट्रीयस मलिका शेरावत के एक केस में वडोदरा की अदालत के हुक्मनामा पर रोक‌ बरक़रार रखा जो दरअसल मलिका शेरावत की जानिब से सात साल पहले मुबय्यना तौर पर एक फ़हश और हैरत‌अंगेज़ डांस पेश करने के ख़िलाफ़ एक दरख़ा

सुप्रीम कोर्ट ने कल‌ बाली वुड ऐक्ट्रीयस मलिका शेरावत के एक केस में वडोदरा की अदालत के हुक्मनामा पर रोक‌ बरक़रार रखा जो दरअसल मलिका शेरावत की जानिब से सात साल पहले मुबय्यना तौर पर एक फ़हश और हैरत‌अंगेज़ डांस पेश करने के ख़िलाफ़ एक दरख़ास्त के इदख़ाल के बाद किया गया।

जस्टिस बी एस चौहान की क़ियादत वाली एक बंच ने शेरावत की एक दरख़ास्त पर उस मुआमले को नजर पर‌ रखा है। शेरावत गुजरात हाईकोर्ट की जानिब से उन्हें कोई राहत फ़राहम ना किए जाने पर फ़ाज़िल अदालत से रुजू हुई थीं। याद रहे कि जारिया साल 2 मार्च को हाईकोर्ट ने शेरावत की एक दरख़ास्त को रद‌ कर दिया था जिस में उन्होंने ख़ाहिश ज़ाहिर की थी कि 2007 में एक मुक़ामी अदालत की जानिब से उनके ख़िलाफ़ जारी किए गए समंस को ख्त्म‌ किया जाये।

नरेंद्र तेवारी जो पेशे से वकील हैं और बरूडा बार एसोसीएश‌ण (BBA) के सदर भी हैं ने मलिका शेरावत के ख़िलाफ़ उरयानित और हीजानअंगेज़ डांस करने पर एक शिकायत 12 जनवरी 2007 को दाखिल‌ किया था। 31 दिसम्बर 2006 को मलिका शेरावत ने मुंबई के एक पाँच सितारा होटल में नए साल के जश्न के मौके पर उर्यां और हीजानअंगेज़ डांस पेश की थी।

TOPPOPULARRECENT