मसऊद अली की ख़ुद नविश्त सवानिह मेरे तास्सुरात , मेरी ज़िंदगी की रस्म रूनुमाई

मसऊद अली की ख़ुद नविश्त सवानिह मेरे तास्सुरात , मेरी ज़िंदगी की रस्म रूनुमाई
हैदराबाद । ०७ सितंबर :कर्नाटक में मुलाज़मत अंजाम देते हुए हैदराबाद की सरज़मीन से पहली मर्तबा अवामी अंदाज़ से उर्दू मैं ख़ुद नविश्त सवानिह उमरी लिख कर अपने हालात , वाक़ियात और तजुर्बात से आगाही देने वाले मीर मसऊद अली ऐडवोकेट की कि

हैदराबाद । ०७ सितंबर :कर्नाटक में मुलाज़मत अंजाम देते हुए हैदराबाद की सरज़मीन से पहली मर्तबा अवामी अंदाज़ से उर्दू मैं ख़ुद नविश्त सवानिह उमरी लिख कर अपने हालात , वाक़ियात और तजुर्बात से आगाही देने वाले मीर मसऊद अली ऐडवोकेट की किताब मेरे तास्सुरात , मेरी ज़िंदगी की रस्म रूनुमाई तक़रीब 8 सितंबर हफ़्ता 5 बजे शाम गोल्डन जुबली हाल दफ़्तर सियासत जवाहर लाल नहरू रोड आबडस के अहाते में अंजाम दी जाएगी ।

इस रस्म रूनुमाई तक़रीब की सदारत जनाब परताब रेड्डी सीनईर ऐडवोकेट हाईकोर्ट अंजाम देंगे । जब कि नवाब ज़ाहिद अली ख़ां ऐडीटर रोज़नामा सियासत के हाथों रस्म रूनुमाई होगी । मेहमानान ख़ुसूसी की हैसियत से जनाब उसमान शहीद ऐडवोकेट सीनईर रुकन ए पी स्टेट लीगल सरवेस अथॉरीटी , प्रोफ़ैसर फ़ातिमा प्रवीण साबिक़ वाइस प्रिंसिपल आर्टस कॉलिज जामिआ उस्मानिया , प्रोफ़ैसर मजीद बेदार साबिक़ सदर शोबा उर्दू जामिआ उस्मानिया और मुहम्मद इला-ए-उद्दीन अंसारी ऐडवोकेट सदर अलानसार वीलफ़ीर ऐंड एजूकेशनल सोसाइटी किताब और मुसन्निफ़ के बारे में इज़हार-ए-ख़्याल करेंगे ।

मुसन्निफ़ की हैसियत से मीर मसऊद अली ऐडवोकेट हदया तशक्कुर पेश करेंगे । मुसन्निफ़ और उन के साहबज़ादे मुहम्मद मीर असद अली और साहबज़ादियों ने अदब दोस्त हज़रात से कसीर तादाद में शरीक हो कर रस्म रूनुमाई तक़रीब को कामयाब बनाने की गुज़ारिश की है ।।

Top Stories