Wednesday , July 18 2018

मस्जिदे अक्सा पर यूनेस्को का फैसला मुसलमानों की जीत है: जामिया अल अज़हर

क़ाहिरा: मिस्र की मशहूर शिक्षण केंद्र जामिया अल अजहर ने यूनेस्को की ओर से अरब के उस प्रस्ताव के पक्ष में वोट दिए जाने का स्वागत किया है जिसमें बावर किया गया है कि मस्जिदे अक्सा और उसका पूरा हरम मुक़द्दस इस्लामी स्थान हैं, और मुसलमानों की पूजा के लिए आरक्षित हैं।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

अल अरबिया डॉट नेट के अनुसार अल अजहर की रसदगाह के मुताबिक यह फैसला फ़िलिस्तीनी जनता और दुनिया भर की मुसलमानों की इच्छा की जीत है। रसदगाह ने फ़िलिस्तीन मुद्दा के व्यापक और निष्पक्ष समाधान के लिए तुरंत गतिशील होने की आवश्यकता पर बल दिया है जिससे इजरायली कब्जे का अंत हो, लोगों को उनके अधिकार लौटाए जाएं, बैतूल मुक़द्दस शहर के धार्मिक और सांस्कृतिक पहचान और विरासत को बरकरार रखा जाए, फिलिस्तीनी राष्ट्र के अधिकार को स्वीकार किया जाए और मस्जिदे अक्सा और अधिकृत मस्जिदे अक्सा के खिलाफ यहूदी कृत्यों का सिलसिला रोक दिया जाए।
उधर मिस्र के मुफ्ती डॉक्टर शोकी अलाम ने “यूनेस्को” संगठन के इस फैसले की सराहना की है जिसमें मस्जिदे अक्सा को सिर्फ मुसलमानों का विशेष पवित्र स्थान माना गया है जिस में यहूदियों का कोई अधिकार नहीं है.
उन्होंने अरब और इस्लामी दुनिया से मांग की है कि यूनेस्को के फैसले से लाभान्वित होने के लिए तुरंत हरकत में आया जाए।
उल्लेखनीय है कि संयुक्त राष्ट्र के उप संगठन “यूनेस्को” ने पेरिस में 58 देशों की उपस्थिति में इस प्रस्ताव को पारित किया जिसके अनुसार मस्जिद अक्सा का यहूदियों से कोई संबंध नहीं है और यह मुसलमानों का पवित्र स्थान है।

TOPPOPULARRECENT