मस्जिदों में चलने वाली ‘शरिया अदालतों’ पर मद्रास हाईकोर्ट ने लगाया प्रतिबंध

मस्जिदों में चलने वाली ‘शरिया अदालतों’ पर मद्रास हाईकोर्ट ने लगाया प्रतिबंध

त्रिवंत्पुरम: NRI अब्दुल रहमान की ओर से दाखिल की गई जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए मद्रास हाईकोर्ट ने तमिलनाडु की मस्जिदों में चलने वाली ‘शरिया अदालतों’ पर प्रतिबंध लगा दिया है। कोर्ट ने अपने फैसले को स्पष्ट करते हुए कहा कि धार्मिक स्थान और अन्य जगहें केवल धार्मिक प्रार्थना के लिए होती हैं।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

अमर उजाला की खबरों के अनुसार अब्दुल रहमान ने कोर्ट से कहा कि चेन्नई के अन्ना सलाई मस्जिद और मक्का मस्जिद में ‘शरियत काउंसिल’ न्यायपालिका की तरह चल रही है। इन शरिया अदालतों में शादी विवाह के मामले, पार्टियों को समन दिए जाने और तलाक के मामलों पर सुनवाई होती है। इनसे मुझे परेशानी हुई है.

मद्रास हाईकोर्ट के पहली पीठ के न्यायाधीश संजय किशन कौल और न्यायाधीश एम. सुंदर ने सोमवार को कहा कि राज्य सरकार धार्मिक स्थानों पर शरिया कोर्ट के प्रचलन को रोके और चार हफ्ते के भीतर इस मसले पर स्टेटस रिपोर्ट फाइल करें।

Top Stories