Thursday , December 14 2017

मस्जिदों से चलाया जा रहा है मुस्लिम पर्सनल लॉ के समर्थन में हस्ताक्षर अभियान

हैदराबाद 15 अक्टूबर: शहर के विभिन्न मस्जिदों में मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की अपील के बाद जबरदस्त हस्ताक्षर अभियान चलाया गया और भारत सरकार के सुप्रीम कोर्ट में दायर हलफनामे और विधि आयोग ऑफ इंडिया के प्रश्नावली को मुसलमानों ने संयुक्त रूप से खारिज करने का घोषणा कीया दोनों शहरों की मस्जिदों में इमामों ने सरकार की ओर से व्यवस्था में हस्तक्षेप के प्रयासों की निंदा करते हुए कहा कि मुसलमानों के लिए व्यवस्था जीवन से अधिक महत्व रखती है और मुसलमान शरीयत मुहम्मदी (सल्लललाहु अलैहि वसल्लम) में किसी प्रकार की विकृत और संपादित बर्दाश्त नहीं कर सकते।

उलेमा ने व्यवस्था में हस्तक्षेप के हस्ताक्षर अभियान बताते हुए कहा कि देश ही नहीं दुनिया का कोई कानून या शक्ति अल्लाह और उसके नियमों को बदलने के लिए विकल्प नहीं रखती। भारत में किए गए उनके प्रयासों को खारिज करने के लिए मुस्लिम समुदाय को एकजुट होते हुए पर्सनल लॉ बोर्ड के आदेश के अनुसार कार्य करना चाहिए ताकि केवल एकता और सहमति किया जा सके बल्कि भारत सरकार को भी इस बात का एहसास दिलाया जा सके कि भारतीय मुसलमान सब कुछ बर्दाश्त कर सकता है लेकिन अपने धार्मिक मामलों में किए गए हस्तक्षेप को सहन नहीं कर सकता।

शुक्रवार की नमाज से पहले अपने बयान में उलेमा ने मुसलमानों से अपील की के वह विधि आयोग ऑफ इंडिया के प्रश्न को खारिज करने के लिए चलाई जाने वाली इस मुहिम में शिद्दत पैदा करें और इस बात की कोशिश करें कि हम जहाँ शरीयत को लागू कर सकते हैं और इस बात की शक्ति रखते हैं कार्यान्वयन व्यवस्था सुनिश्चित करें।

मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की ओर से जारी परफॉर्म के अनुसार हस्ताक्षर अभियान जारी रहेगा। इमामों और खतीब लोगों ने मुसलमानों से अपील की के वह हमेशा मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की आवाज़ पर लब्बैक कहने के लिए तैयार रहें और ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के ज़िम्मेदारों के आदेशों के अनुसार विरोध जारी है। शहर के कई स्थानों पर चलाए गए हस्ताक्षर अभियान के दौरान युवकों ने गंभीर भावनाओं को व्यक्त करते हुए सरकार के रुख पर नाराज़गी जताई।

उलेमा ने नौजवानों से अपील की के वह अपने घर की महिलाओं को इस समस्या की गंभीरता से अवगत करवाते हुए उनके हस्ताक्षर भी मिलता करें और हस्ताक्षर किए गए फॉर्म्स मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के कार्यालय को रवाना किए जाएं।

TOPPOPULARRECENT