Sunday , December 17 2017

मस्जिद में अज़ान पर रोक लगाने वाले बिल को इजरायल प्रधानमंत्री ने किया पास

येरुशलम :इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतनयाहू आज एक बिल को समर्थन दिया है जिसमें अज़ान की तादाद पर रोक लगाने के लिए कहा गया था | इस प्रस्ताव को सरकार के काम काज पर नज़र रखने वाली संस्थाओं ने धार्मिक स्वतंत्रता का हनन  बताया है |

इससे पहले नेतनयाहू ने मंत्रिस्तरीय समिति  के सामने इस विधेयक को स्वीकार करते हुए कहा कि वह इसका समर्थन करेंगे भले ही कुछ लोग इसको अनावश्यक और विभाजनकारी बताएं | कानून बनने से पहले ये विधेयक संसद में तीन बार पढ़ा जायेगा |इजरायली मीडिया ने बताया कि इस बिल के द्वारा  प्रार्थना के दौरान पब्लिक एड्रेस सिस्टम का इस्तेमाल नहीं किया जायेगा |

नेतनयाहू मंत्रिमंडल की बैठक की शुरुआत में कहा था कि प्राथर्ना कई बार होती है इसकी कोई गिनती नहीं है | इजरायल के सभी हिस्सों ने सभी धर्मों के प्रार्थना घरों में पब्लिक एड्रेस सिस्टम के इस्तेमाल की वजह से आने वाले इस अत्यधिक शोर से पीड़ित होने की बात कही थी |  ये विधेयक सभी पूजा घरों पर लागू होता है, लेकिन इसे विशेष तौर पर मस्जिदों पर निशाने के रूप में देखा जा रहा है |

इजरायल की आबादी लगभग 17.5 प्रतिशत अरब है |  उनमें से ज्यादातर मुस्लिम का आरोप है कि बहुसंख्यक यहूदी उनके ख़िलाफ़ भेदभाव करते हैं |

पूर्वी जेरूसलम भी पब्लिक एड्रेसिंग सिस्टम के माध्यम से मुअज्ज़िन की अज़ान को मुख्य फिलिस्तीनी  शहर में सुना जा सकता है | इसराइल लोकतंत्र संस्थान जो गैर पक्षपातपूर्ण है उसने इस प्रस्ताव का विरोध किया है |उसने आरोप लगाया कि इजरायल के दक्षिणपंथी राजनेताओं द्वारा जीवन की गुणवत्ता में सुधार की आड़ में इस मुद्दे का इस्तेमाल अपने राजनीतिक उद्देश्य की पूर्ति के लिए किया जा रहा है |

TOPPOPULARRECENT