Wednesday , December 13 2017

महज 30 सेकंड में देखते-देखते सबकुछ बर्बाद हो गया

मंडी के लारजी डैम में हुए हादिसा के बारे में कई हकायक सामने आए हैं। ऐनी शाहिदीनो का कहना है कि स्टूडेंट्स पानी का मिजाज समझ नहीं पाए और बह गए। उनके मुताबिक 30 सेकंडों में ही 24 स्टूडेंट्स को तेजधार वाला पानी बहा ले गया। साथ ही उनका कह

मंडी के लारजी डैम में हुए हादिसा के बारे में कई हकायक सामने आए हैं। ऐनी शाहिदीनो का कहना है कि स्टूडेंट्स पानी का मिजाज समझ नहीं पाए और बह गए। उनके मुताबिक 30 सेकंडों में ही 24 स्टूडेंट्स को तेजधार वाला पानी बहा ले गया। साथ ही उनका कहना है कि अगर 30 सेकेंड पहले सभी अलर्ट हो गए होते तो उनकी जिंदगी बच सकती थी।

जब पानी का तेज बहाव आना शुरू हुआ तो कई स्टूडेंट्स किनारे की तरफ जाने की कोशिश करने लगे, लेकिन कामयाब नहीं हो सके। पानी का बहाव इतना तेज था कि किसी के पैर एक जगह टिक नहीं पा रहे थे। उनमें से एक स्टूडेंट ने तेजी दिखाते हुए बिना किसी मद के किनारे की ओर लपका, लेकिन वह भी बह गया।

ऐनी शाहिदीनो के मुतबैक पानी के बढ़ने पर सबसे पहले एक स्टूउदेंट इसका शिकार हुआ और फिर उसी को बचाने और देखने के चक्कर में कुछ स्टूडेंस फंस गए। अभी वे कुछ समझ ही पाते कि जिस चट्टान पर ज्यादा स्टूडेंट्स थे वह टापू के हालात में आ गई और फिर पानी वहां भी भर गया।

किनारे पर खड़े उनके साथी चीखते चिल्लाते रहे पर किसी के पास कुछ भी कर सकने का कोई मौका नहीं था। आपको बता दें कि इस हादिसा से पहले दो बसों में मनाली जा रहे स्टूडेंट्स का यह काफिला एक ढाबे पर रुका। उसमें से कुछ स्टूडेंट्स बहती व्यास नदी को देख मुतास्सिर हो गए और वहां तस्वीर खींचने पहुंच गए। उस वक्त पानी काफी कम था। ऐसे में नदी के अंदर वे काफी आगे चले गए और बीचो-बीच चट्टानों पर बैठ गए।

मस्ती चल ही रही थी और देर होने की वजह से कुछ स्टूडेंट्स किनारे की ओर आ गए, जबकि कुछ ने चलना शुरू कर दिया। इसी दौरान एक स्टूउडेंट जो पानी के बीच में उतरा हुआ था वह तेज बहाव में बहने लगा। उसकी ओर सभी का ध्यान गया लेकिन बढ़ते पानी की शिद्दत को कोई भांप नहीं पाया।

बहते हुए स्टूडेंट को बचाने की तरकीब ही सोची जा रही थी कि चट्टान पर खड़े स्टूडेंट्स को भी पानी ने अपनी चपेट में ले लिया और देखते ही देखते 30 सेकंड के भीतर सबकी जिंदगी खत्म हो गई।

TOPPOPULARRECENT