Thursday , December 14 2017

महबूबा मुफ्ती के रिमार्क पर कांग्रेस की तीव्र प्रतिक्रिया

श्रीनगर: कश्मीर में सियोल सचिवालय पुनः खुलेपन के अवसर पर निर्दलीय विधायक शेख अब्दुल राशिदऔर उनके समर्थकों ने विरोध प्रदर्शन का आयोजन करने की कोशिश की जिन्हें पुलिस ने हिरासत में ले लिया।  शेख अब्दुल राशिद और उनकी सार्वजनिक गठबंधन पार्टी के समर्थकों ने मगरमल बगीचे सियोल सचिवालय तक विरोध प्रदर्शन का आयोजन करने की कोशिश की लेकिन पुलिस की भारी भीड़ ने एगज़ीबिशन पार के पास उन्हें रोक दिया।

पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि उत्तरी कश्मीर के लियान गेट प्रतिनिधित्व कर रहे विधायक और उनके समर्थक आगे बढ़ना चाहते हैं, लेकिन पुलिस ने त्वरित हरकत में आते हुए  शेख अब्दुल राशिद और उनके समर्थकों को हिरासत में ले लिया। इस दौरान जम्मू-कश्मीर प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने मौलाना आजाद रोड पर पार्टी मुख्यालय के पास शांतिपूर्ण धरना आयोजित किया।

इस विरोध का नेतृत्व राष्ट्रपति जम्मू कश्मीर प्रदेश कांग्रेस कमेटी गुलाम अहमद मीर रहे थे। उन्होंने इस अवसर पर बोलते हुए कहा कि महबूबा मुफ्ती सरकार सभी मोर्चों पर विफल हो चुकी है। उन्हें मुख्यमंत्री से पूछना चाहिए होगा कि आखिर सरकार क्या काम कर रही है। हुर्रियत कांफ्रेंस से बातचीत नहीं की जा रही है। सेना को विशेषाधिकार कानून (अफसपा) से अस्वीकरण के सिलसिले में कोई प्रगति नहीं हुई।

विद्युत प्रोजेक्ट्स के बारे में बातचीत नहीं हो रहीं हैं। स्कूल्स और कॉलेजस बंद हैं। विकास कार्य अवरुद्ध और पर्यटन समाप्त हो चुकी है। उन्होंने कहा कि आखिर सरकार क्या काम कर रही है। अब यहाँ केवल ऑक्सीजन रह गई है। महबूबा मुफ्ती के इस बयान का हवाला देते हुए कि केवल मोदी ही कश्मीर समस्या को हल कर सकते हैं क्यों कि उन्हें भरपूर सार्वजनिक समर्थन प्राप्त है, गुलाम अहमद मीर ने कहा कि प्रधानमंत्री ने तीन साल में केंद्र कश्मीर नीति पर एक शब्द भी नहीं कहा।

हमारा यह लोकतांत्रिक अधिकार है कि किस आधार पर महबूबा मुफ्ती ऐसी बात कर रहे हैं, जनता यह जानना चाहती हैं।

TOPPOPULARRECENT