Tuesday , December 19 2017

महबूबा मुफ्ती ने दिया 4327 पत्थरबाजों के खिलाफ केस वापसी का आदेश

नगर, एजेंसी : कश्मीर में आतंकियों के ब़़डे पैमाने पर सफाए के बाद नागरिक असंतोषष कम करने के इरादे से मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने 4327 पत्थरबाजों के खिलाफ केस वापसी का आदेश दे दिया। मुख्यमंत्री ने उम्मीद जताई कि केस वापसी से राज्य में सकारात्मक व शांति का माहौल बनाने में मदद मिलेगी। युवा रचनात्मक व सकारात्मक तरीके से अपना जीवन बनाने में सक्षम होंगे।  जम्मू-कश्मीर के डीजीपी एसपी वैद की अध्यक्षता वाली उच्चाधिकार कमेटी ने बुधवार को सौंपी रिपोर्ट में केस वापसी की सिफारिश की थी। राज्य के युवाओं पर केस वापसी के लिए सभी वर्गो के लोग मांग कर रहे हैं।

बुधवार को लिया गया यह अहम फैसला महबूबा सरकार के सत्ता में आते ही शुरू की गई केस वापसी प्रक्रिया की बहाली है। इससे पहले उन्होंने 2008 से 2014 के युवाओं के खिलाफ दर्ज मामले वापस लेने का आदेश दिया था। पहली खेप में 634 युवाओं से संबंधित 104 केस वापस लिए गए थे। लेकिन लगातार हिंसा व अशांति के कारण पिछले साल के अंतिम हिस्से में यह प्रक्रिया रक गई थी। अब 744 केसों से संबंधित 4327 युवाओं के केस वापल लेने का आदेश दिया गया है।
 
ताजा आदेश को मिलाकर मुख्यमंत्री के निर्देश पर अब वापस लिए गए कुल केसों की संख्या 848 हो गई है। इससे कुल 4957 युवाओं पर मुकदमे खत्म हो जाएंगे। महबूबा ने वादा किया था कि राज्य में कम गंभीर मामलों के आरोपी युवाओं के केस वापस लिए जाएंगे। हाल में उन्होंने 2015 के बाद से आज तक के केसों की समीक्षा का आदेश दिया है। इस पर उच्चाधिकारी कमेटी विचार कर रही है। उसकी रिपोर्ट मिलने के बाद इस बारे में निर्णय लिया जाएगा।

राज्य में उग्रवाद से निपटने में नरम रवैया अपनाने की पैरवी करते हुए महबूबा ने उनकी सरकार द्वारा पहली बार पथराव करने वाले के केस वापस लेने के फैसले की ओर ध्यान आकषिर्षत किया। उन्होंने कहा कि पुलिस को इन बच्चों की काउंसिलिंग व अभिभावक के रूप में उनसे परामर्श करना चाहिए। मैंने पैलेट गन से जख्मी लोगों को मेरे घर बुलाया था। मुझे जानकार हैरानी हुई की इन पत्थरबाजों में से अधिकांश की उम्र 14, 15 व 16 साल थी।

TOPPOPULARRECENT