Wednesday , February 21 2018

महर्षि दयानन्द के सिद्धांतों पर चलने की आवश्यकता: मीनाक्षी लेखी

नई दिल्ली: आज केन्द्रीय आर्य युवक परिषद दिल्ली के तत्वावधान में आर्य समाज के संस्थापक, महान समाज सुधारक महर्षि दयानंद सरस्वती का 194 वा जन्मोत्सव 14, महादेव रोड़ नई दिल्ली में मनाया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ आचार्य यशपाल शास्त्री ने यज्ञ करवा कर किया।

मुख्य अतिथि सांसद मीनाक्षी लेखी ने महर्षि दयानन्द के सिद्धातों पर चलने की आवश्यकता है। कन्या भ्रूण हत्या, दहेज प्रथा व सामाजिक बुराइयों के विरुद्ध संघर्ष करना होगा। आर्य समाज के लोगों को समाज के बीच जाकर पाखण्ड अंधविश्वास के विरुद्ध जनजागरण करना है।

उन्होने कहा की शिक्षा क्षेत्र में भी आज सुधार की जरूरत है जिससे युवा पीढ़ी देश भक्त तैयार हो। पूर्व महापौर सुभाष आर्य ने आर्य समाज को आंदोलन बनाने का आह्वान किया उन्होंने कहा कि राष्ट्र की समस्याओं का हल महर्षि दयानंद के आदर्शों पर चलने पर ही होगा।

केन्द्रीय आर्य युवक परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ अनिल आर्य ने कहा की राष्ट्र में विघटनकारी शक्तियां सर् उठा रही है युवाओं में संस्कार व देश की भारतीय संस्कृति के प्रति निष्ठा पैदा करना समय की आवश्यकता है, ऋषि दयानन्द ने सबसे पहले स्वाधीनता के संदेश दिया जिससे प्ररेणा लेकर हजारों युवा आज़ादी के आंदोलन में कूद पड़े। समारोह की अध्यक्षता आर्य नेता दर्शन अग्निहोत्री ने की।

वैदिक विद्वान आचार्य वीरेंदर विक्रम, आचार्य योगेंद्र शास्त्री, बहिन वैशाली, पुष्पा चुघ, आचार्य महेन्द्र भाई ने भी अपने विचार रखे।

अनिल शर्मा, भारत मदान, ओम सपरा, यशपाल आर्य, सौरभ गुप्ता, अंजू मेहरोत्रा, रमेश गाड़ी, उर्मिला आर्य, चन्दर भान अरोड़ा, देवेन्द्र भगत राधा भारद्वाज प्रमुख रूप से उपस्थित थे।

TOPPOPULARRECENT