महाराष्ट्रा असेंबली मानसून इजलास : मंत्रालय आतिशज़दगी पर मुबाहिसा का मुतालिबा

महाराष्ट्रा असेंबली मानसून इजलास : मंत्रालय आतिशज़दगी पर मुबाहिसा का मुतालिबा
महाराष्ट्रा असेंबली के मानसून इजलास का आज यहां अपोज़ीशन के शोर-ओ-गुल से आग़ाज़ हुआ, जहां कई अहम मौज़ूआत बिशमोल सेक्रेटरी (मंत्रालय) में हालिया आतिशज़दगी ज़ेर-ए-बहस आयेंगे।

महाराष्ट्रा असेंबली के मानसून इजलास का आज यहां अपोज़ीशन के शोर-ओ-गुल से आग़ाज़ हुआ, जहां कई अहम मौज़ूआत बिशमोल सेक्रेटरी (मंत्रालय) में हालिया आतिशज़दगी ज़ेर-ए-बहस आयेंगे।

स्पीकर दिलीप वालसे पाटील ने दरीं असना ऐलान किया कि मंत्रालय की आतिशज़दगी का मुआमला ऐवान ( परिषद) में कल पेश किया जाएगा। वज़ीर-ए-आला पृथ्वी राज चौहान ने कहा कि हुकूमत आतिशज़दगी मुआमला पर एक मुकम्मल और जामि मुबाहिसा करना चाहती है।

उन्होंने कहा कि आतिशज़दगी मामूली नौईयत की नहीं थी क्योंकि इस में इमारत की सब से ऊपरी मंज़िल ख़ाकसतर हो गई। उन्होंने कहा कि हर नुक्ता पर ग़ौर-ओ-ख़ौज़ किया जाएगा। क़ाइद अपोज़ीशन ( विपक्ष के नेता) एकनाथ खडे ने मुतालिबा किया कि ज़ाबता 97 के मुताबिक़ आतिशज़दगी के मुआमला पर आज ही मुबाहिसा किया जाए।

दूसरी तरफ़ वज़ीर बराए पारलीमानी उमूर हरीश वर्धन पाटिल ने कहा कि हुकूमत और अपोज़ीशन ( सरकार और विपक्ष) के नज़रियात का लिहाज़ करते हुए स्पीकर को इस मौज़ू ( विषय) पर बहस की इजाज़त दिए जाने पर ग़ौर करना चाहीए। ऐवान की कार्रवाई जब दुबारा शुरू हुई तो अपोज़ीशन एक बार फिर शोर-ओ-गुल करते हुए आतिशज़दगी के मौज़ू पर आज ही मुबाहिसा करने पर ज़ोर दिया।

Top Stories