Sunday , December 17 2017

महाराष्ट्रा असेंबली वकफ़ा-ए-सवालात मुसलसल तीसरे रोज़ भी शोर-ओ-गुल की नज़र

नागपुर, 14 दिसंबर: ( पीटीआई) महाराष्ट्रा लेजिस्लेचर के जारी सरमाई इजलास में मुसलसल चौथे रोज़ भी वकफ़ा-ए-सवालात शदीद तौर पर मुतास्सिर हुआ । ऐवान की कार्रवाई शुरू होते ही वकफ़ा-ए-सवालात का आग़ाज़ किया गया लेकिन अपोज़ीशन क़ाइद एकनाथ खडसे ( ब

नागपुर, 14 दिसंबर: ( पीटीआई) महाराष्ट्रा लेजिस्लेचर के जारी सरमाई इजलास में मुसलसल चौथे रोज़ भी वकफ़ा-ए-सवालात शदीद तौर पर मुतास्सिर हुआ । ऐवान की कार्रवाई शुरू होते ही वकफ़ा-ए-सवालात का आग़ाज़ किया गया लेकिन अपोज़ीशन क़ाइद एकनाथ खडसे ( बी जे पी ) ने फ़ौरी तौर पर एहतिजाज करते हुए हुकूमत से मुतालिबा किया कि पार्टी ने आबपाशी अस्क़ाम ( घोटाला) की स्पेशल इंवेस्टीइगेशन टीम (SIT) की जानिब से तहक़ीक़ात करने का मुतालिबा किया था जिस पर हुकूमत ने कोई तवज्जा नहीं दी ।

इस मौक़ा पर खडसे की ताईद में सुभाष देसाई( शिवसेना) देवेंद्र ( बी जे पी ) गिरीश बापट( बी जे पी ) और बाला ननदगांवकर ( कट इन एस ) भी अपनी नशिस्तों से खड़े हो गए और स्पीकर की जानिब हाथ लहराते हुए अपने मुतालिबा में शिद्दत पैदा करने की कोशिश की ।

स्पीकर दिलीप वालसे पाटिल ने इन तमाम अरकान से कहा कि वो एजंडा के मुताबिक़ वकफ़ा-ए-सवालात को जारी रहने दें लेकिन इन क़ाइदीन ने स्पीकर की एक ना सुनी और SIT के ज़रीया तहक़ीक़ात करने के अपने मुतालिबा को बरक़रार रखते हुए नारे बाज़ी शुरू कर दी ।

दूसरी तरफ़ ट्रेझ़री बेंच्स ने भी अपोज़ीशन के इस गै़रज़रूरी एहतिजाज और शोर-ओ-गुल पर एतराज़ करते हुए वकफ़ा-ए-सवालात के आग़ाज़ का मुतालिबा किया । कट एन एस के बालानंदगावंकर ने कहा कि गुज़शता तीन रोज़ से ऐवान में जारी शोर-ओ-गुल की वजह से विदर्भा के कई अहम मसाइल को ऐवान में पेश नहीं किया जा सका जिन में कपास धान और सोया की क़ीमतों का ताय्युन भी शामिल है ।

स्पीकर ने जब देखा कि अपोज़ीशन अरकान उनकी हर दरख़ास्त को नजरअंदाज़ कर रहे हैं तो उन्होंने ऐवान की कार्रवाई को एक घंटा के लिए मुअत्तल कर दिया जो दरअसल वकफ़ा-ए-सवालात के लिए मुख़तस था ।

TOPPOPULARRECENT