Thursday , December 14 2017

माँ मुझे क़त्ल कर दो, भूख से तड़पते बेटे की फ़रयाद

फ़्लोजा: इराकी शहर फलोजा को हाल ही में इस्लामिक स्टेट के कब्जे से मुक्त करा लिया गया है। इस कार्रवाई के दौरान सैंकड़ों लोग भूख और प्यास का शिकार हुए। इन्हीं में से एक उम्मे असाम भी हैं। इस दौरान इन पर क्या बीती? पढ़ें इस रिपोर्ट में

उम्मे असाम के पांच वर्षीय बेटे ने कहा, ” मुझे कत्ल कर दो। ‘ इस लड़के ने फरियाद केवल इसलिए की थी कि वह बहुत भूखा था और यह दर्द सहन से बाहर हो चुका था। उम्मे असाम को पता था कि अगर उन्हें भागने का मौका मिला तो वह कभी फलोजह वापस नहीं आएंगे। यह क्षेत्र दो साल तक इस्लामिक स्टेट प्रशासित रहा। बयालीस वर्षीय उम्मे असाम कहती हैं, ” मेरा बेटा भूख से इतना तंग आ चुका था कि उसने मरने की फरमाइश कर डाली। वह तो केवल पांच साल का था। ”

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

उम्मे असाम पर इससे पहले भी कई पीड़ा बीत चुके हैं। दो साल पहले उस समय उनका एक गर्भावस्था बर्बाद हुआ, जब फलोजह अस्पताल के पास हुए एक हमले के बाद अफरातफरी फैली थी, ” मैं डर गया था, हर तरफ लोग जान बचाने के लिए भाग रहे थे और इस दौरान मेरे पेट में मौजूद दो जिंदगियां खत्म हो गईं। जुड़वां बच्चों की मां बनने वाली थी। ” उन्होंने बताया कि उनके पास खाने को कुछ नहीं था और भूख से तंग आकर उन्होंने अस्पताल का रुख किया था। उम्मे असाम के नौ बच्चे हैं।

वह आजकल फलोजह ऑपरेशन के दौरान विस्थापित लोगों के लिए बनाए गए एक केंद्र में शरण लिए हुए हैं। इस शिविर को नॉर्वे का एक कल्याणकारी संस्था चला रहा है। उम्मे असाम कहती हैं, ” मौसम गर्म है और धूल मिट्टी भी है। यहाँ खाने और पीने की वस्तुओं की भी कमी है लेकिन हम गुज़ारा कर लेंगे। ” उनके अनुसार वह वापस नहीं जाना चाहतीं क्योंकि पहले अमेरिकियों ने फिर अलकायदा ने फिर आईएस ने और अंत में भूख ने फलोजह में जीवन असंभव बना दिया है। ” मुझे पता नहीं भविष्य में क्या हालात होंगे लेकिन यह शहर बर्बाद हो चुका है इसलिए मैं वापस नहीं जाऊँगी। ”

उल्लेखनीय है कि फलोजह में सैन्य कार्रवाई तो समाप्त हो चुकी है और आईएस के लड़ाके शहर से भाग भी चुके हैं लेकिन शहर और आसपास के क्षेत्रों में मानवीय संकट की स्थिति बदस्तूर मौजूद है। इराकी सेना ने रविवार को फलोजह की स्वतंत्रता की घोषणा की थी।

TOPPOPULARRECENT