Sunday , December 17 2017

माइक्रोसॉफ्ट सीईओ नडेला ने किया हैदराबाद में स्टार्ट-अप विकास में मदद का वादा

हैदराबाद: माइक्रोसॉफ्ट के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सत्या नडेला ने सोमवार को आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन. चंद्रबाबू नायडू के साथ नाश्ते पर मुलाकात की और तेलंगाना सरकार द्वारा विकसित टेक्नोलॉजी इन्क्यूबेटर टी-हब का दौरा किया।

माइक्रोसॉफ्ट का प्रमुख बनने के बाद नडेला दूसरी बार हैदराबाद आए हैं। गत वर्ष सितंबर में अपनी पहली यात्रा में वह नायडू से मुलाकात नहीं कर पाए थे, क्योंकि वह तब विशाखापत्तनम गए हुए थे। तब नडेला ने तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव से मुलाकात की थी। इस बार वह नायडू से मिले और देश के सबसे बड़े प्रौद्योगिकी इन्क्यूबेटर टी-हब भी गए।

आंध्र प्रदेश सरकार ने राज्य के विकास की खातिर क्लाउड प्रौद्योगिकी का दोहन करने के लिए सोमवार को माइक्रोसॉफ्ट के साथ एक सहमतिपत्र (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए।
नडेला ने अगली यात्रा में अपने पैतृक अनंतपुर जिले में जाने का भी वादा किया। नडेला का जन्म अनंतपुर जिले में हुआ था। उनका पालन-पोषण और शिक्षा हालांकि हैदराबाद में हुई। सरकार माइक्रोसॉफ्ट इंडिया के सहयोग से शिक्षा, कृषि और ई-नागरिकता सेवा के क्षेत्र में तीन प्रूफ ऑफ कंसेप्ट (पीओसी) समाधान तैयार करेगी।

इससे पहले राज्य सरकार के संचार सलाहकार के कार्यालय से जारी एक बयान में कहा गया था कि नडेला ने विशाखापत्तनम में माइक्रोसॉफ्ट का उत्कृष्टता केंद्र खोलने पर सहमति दे दी है। बाद में जारी किए गए एक संशोधित बयान में हालांकि कहा गया है कि सरकार ने उनसे उत्कृष्टता केंद्र खोलने के लिए अनुरोध किया है।

नायडू के साथ हुई मुलाकात में चर्चा मुख्यत: इस बात पर हुई कि किस प्रकार माइक्रोसॉफ्ट सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) उपयोग के जरिए आंध्र प्रदेश में विकास की गति तेज कर सकता है। नडेला ने राज्य सरकार द्वारा हाल में ही शुरू की गई ई-प्रशासन पहल 2,500 करोड़ रुपये की ई-प्रगति परियोजना में रुचि दिखाई।

टी-हब में नडेला ने कहा कि कंपनी अपनी सहायक इकाई माइक्रोसॉफ्ट वेंचर्स के माध्यम से हैदराबाद एक्सेलरेटर और स्टार्ट-अप का विकास करने में मदद करेगी। टी-हब अंतरराष्ट्रीय सूचना प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईआईटी) परिसर में स्थित है। नडेला अपने पारिवारिक कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए हैदराबाद आए हैं।

उन्होंने उभरते उद्यमियों को संबोधित करते हुए कहा, ‘इस क्षेत्र में भारतीय प्रतिभा तेजी से उभर रही है और हम उसका प्रभुत्व देख रहे हैं।’ नडेला ने कहा कि माइक्रोसॉफ्ट का लक्ष्य और स्वप्न है। स्थानीय उद्यमियों को मजबूत करना, ताकि आखिरी व्यक्ति तक पहुंचा जा सके।

टी-हब का दौरा उन्होंने तेलंगाना के सूचना और प्रौद्योगिकी मंत्री के.टी. रामाराव (केटीआर) के साथ की। इस दौरान केटीआर ने उन्हें सरकार के विभिन्न कार्यक्रमों की जानकारी दी। मंत्री ने बाद में संवाददाताओं से कहा कि कई अन्य मुद्दों पर सहयोग के लिए भी नडेला से बात हुई। मंत्री ने उनसे हैदराबाद में क्लाउड डाटा केंद्र खोलने का अनुरोध किया। नडेला ने वादा किया कि इस दिशा में वह कोशिश करेंगे।

सरकार विश्लेषण के लिए माइक्रोसॉफ्ट की अजुर मशीन लर्निंग एंड एडवांस्ड विजुअलाइजेशन प्रयोगशाला प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल करेगी। कंपनी राज्य सरकार के प्रमुख आईटी अधिकारियों को माइक्रोसॉफ्ट की प्रौद्योगिकियों का प्रशिक्षण भी देगी। कंपनी सरकार के प्रमुख प्रशासनिक अधिकारियों के साथ एक विशेष कार्यशाला भी करेगी और यह कार्यशाला माइक्रोसॉफ्ट प्रौद्योगिकियों के सहारे उत्पादकता बढ़ाने पर केंद्रित होगा।

राज्य सरकार ने नडेला से राज्यभर में सरकारी स्कूलों की कक्षाओं को डिजिटल बनाने में माइक्रोसॉफ्ट की मदद मांगी। मंत्री ने कहा, ‘श्रीमान नडेला को केंद्र में रखकर हम यह सुनिश्चित करने की कोशिश कर रहे हैं कि माइक्रोसॉफ्ट की मदद का वाजिब हिस्सा हैदराबाद को मिले।’

TOPPOPULARRECENT