Saturday , December 16 2017

मानसून ने पूरे मुल्क का अहाता कर लिया

मानसून ने आज पूरे मुल्क का अहाता कर लिया ताहम बारिश में हनूज़ ( अभी तक) 23 फीसद ( %) की क़िल्लत का अंदेशा है। हिंदूस्तानी महकमा मौसमियात ( मौसम विभाग) के एक आला सतही ओहदेदार ने कहा कि जुनूब मग़रिबी मानसून 5 जून को केराला से टकराया लेकिन इस क

मानसून ने आज पूरे मुल्क का अहाता कर लिया ताहम बारिश में हनूज़ ( अभी तक) 23 फीसद ( %) की क़िल्लत का अंदेशा है। हिंदूस्तानी महकमा मौसमियात ( मौसम विभाग) के एक आला सतही ओहदेदार ने कहा कि जुनूब मग़रिबी मानसून 5 जून को केराला से टकराया लेकिन इस की पेशरफ़्त सुस्त रफ़्तार रही जिस की वजह से बड़ी खरीफ की फसलें बोने की कार्रवाई मुतास्सिर ( प्रभावित) हुई जैसे कि धान , दालों और मोटे ग़िज़ाई अजनास की बोवाई मुतास्सिर हुई।

बारिश की सूरत-ए-हाल बेहतर हो चुकी है लेकिन इस के बावजूद बारिश की मिक़दार कम है। गुजरात और राजस्थान में ज़बरदस्त बारिश होरही है। मानसून की बारिश में बेहतरी की बिना पर महिकमा मौसमियात ( मौसम विभाग) के ओहदेदार राठौर ने कहा कि धान , सोयाबीन और मूंगफली की ब्वॉय में रफ़्तार पैदा होगई है।

ताहम उन्होंने निशानदेही की की कर्नाटक और महाराष्ट्रा में बहुत कम बारिश होने से मोटे ग़िज़ाई अजनास की फसलें मुतास्सिर हो सकती है। राठौर वज़ीर ज़राअत शरद पवार और वज़ीर अग़्ज़िया (खाध मंत्री) के वी थॉमस से मानसून की पेशरफ़्त पर तबादला ख़्याल के बाद बारिश की सूरत-ए-हाल पर ज़राए इबलाग़ से तबादला ख़्याल कर रहे थे, उन्होंने कहा कि अब बारिश हमालयाई सिलसिला, तराई, शुमाल मशरिक़ी हिंदूस्तान मुंतक़िल हो जाएगी।

बारिश की मिक़दार में 23 फीसद ( %) कमी से इमकान है कि फसलें मुतास्सिर होंगी। ये कमी आइन्दा हफ़्ता भी जारी रहेगी । उन्होंने कहा कि ताहाल कर्नाटक , पंजाब , हरियाणा , राजस्थान , महाराष्ट्रा , गुजरात और वसती मध्य प्रदेश में बहुत कम बारिश हुई है । हिंदूस्तान में 2.256 मिलियन टन की रिकार्ड पैदावार 2011 12 में की है और गुज़श्ता साल बेहतर बारिश उस की वजह थी ।

मानसून की बारिश ज़रई शोबा की अहमियत रखती है जिस से तकरीबन मुल़्क की जी डी पी का 15 फीसद हासिल होता है, जुमला काबिल काश्त इलाक़ा का सिर्फ 40 फीसद आबपाशी ( सिंचाई) की सहूलत रखता है । बाक़ी इलाक़ा बरसात पर ही इन्हिसार ( निर्भर) करता है।

TOPPOPULARRECENT