Friday , December 15 2017

मामुल से तीन डिग्री ऊपर शहर का दर्जे हरारत

रांची 25 मई : दारुल हुकूमत का दर्जे हरारत लगातार मामुल से ऊपर चल रहा है। जुमा को भी दारुल हुकूमत का ज्यादा से ज्यादा दर्जे हरारत 40.4 डिग्री सेसि रिकॉर्ड किया गया। यह मामुल से तीन डिग्री सेसि ऊपर है। इमकान जतायी जा रही है कि मई माह के आखर

रांची 25 मई : दारुल हुकूमत का दर्जे हरारत लगातार मामुल से ऊपर चल रहा है। जुमा को भी दारुल हुकूमत का ज्यादा से ज्यादा दर्जे हरारत 40.4 डिग्री सेसि रिकॉर्ड किया गया। यह मामुल से तीन डिग्री सेसि ऊपर है। इमकान जतायी जा रही है कि मई माह के आखरी हफ्ता में दारुल हुकूमत का ज्यादा से ज्याद दर्जे हरारत 36-37 डिग्री सेसि के आसपास रहेगा।

मौसम सायंस महकमा के मुताबिक, आसमान में बादल छाये रह सकते हैं। कहीं-कहीं छिटपुट बारिश भी हो सकती है। गुजिस्ता 15 दिनों से दारुल हुकूमत का दर्जे हरारत 40 डिग्री सेसि से ऊपर चल रहा है। इस दरमियान में एक-दो दिन दारुल हुकूमत का दर्जे हरारत 40 डिग्री सेसि से नीचे रहा है।

वाष्प कम बनने के सबब नमी

माहौल में वाष्प नहीं बनने के वजह नमी बढ़ जाती है। बीएयू के मौसम सायंस मकाम के सदर डॉ ए बदूद के मुताबिक गरमी के दिनों में वाष्प कम बनता है। इसका असर माहौल पर दिखता है। वाष्प नहीं बनने के वज़ह जिस्म से पसीना निकलता है। वाप्ष नहीं बनने के वज़ह जिस्म जल्द ठंडा नहीं हो पाता है। जिस्म के लगातार गरम रहने के वज़ह पसीना लगातार गिरता रहता है। डॉ बदूद के मुताबिक माहौल में दर्जे हरारत में हर किलोमीटर पर तकरीबन साढ़े छह सेंटीग्रेड का तबदीली होता है। कभी-कभी इसमें कुछ तबदीली हो जाता है। इस वज़ह माहौल में वाप्ष नहीं बन पाता है।

TOPPOPULARRECENT