Thursday , December 14 2017

मालदीप दौलत-ए-मुश्तरेका वोज़ारती ग्रुप से मुअत्तल

मालदीप को दौलत-ए-मुश्तरेका(common wealth ) वोज़ारती कार्रवाई ग्रुप से मुअत्तल कर दिया गया है जो दौलत-ए-मुश्तरेका की इंतेहाई ताक़तवर कमेटी है । हालिया सियासी इंतेशार के बाद जिस के नतीजे में मालदीप की पहली जमहूरी तौर पर मुंतख़बा हुकूमत और

मालदीप को दौलत-ए-मुश्तरेका(common wealth ) वोज़ारती कार्रवाई ग्रुप से मुअत्तल कर दिया गया है जो दौलत-ए-मुश्तरेका की इंतेहाई ताक़तवर कमेटी है । हालिया सियासी इंतेशार के बाद जिस के नतीजे में मालदीप की पहली जमहूरी तौर पर मुंतख़बा हुकूमत और इस के सदर मुहम्मद नशीद को बरतरफ़ कर दिया गया । इस कार्रवाई के पेश नज़र दौलत-ए-मुश्तरेका की वोज़ारती कार्रवाई कमेटी ने मालदीप को मुअत्तल कर दिया है ।

इस का एक ग़ैर मामूली इजलास कल लंदन में मुनाक़िद किया गया जिस में कमेटी को इत्तिला मिली कि तीन रुकनी वोज़ारती वफ़द ने मालदीप का 17 फ़रवरी से दौरा किया है ताकि हक़ायक़ का जायज़ा लिया जा सके जो इक़तेदार की मुंतक़ली की वजह हैं और दौलत-ए-मुश्तरेका की इक़दार और उसूलों की पाबंदी को फ़रोग़ दिया जा सके। सदर मालदीप मुहम्मद नशीद का 7 फ़रवरी 2012 को इस्तीफ़ा कमेटी के पेश नज़र है और वो तमाम मालूमात का जो उसे फ़राहम की गई हैं जायज़ा ले रही है । दौलत-ए-मुश्तरेका की कार्रवाई कमेटी ने इत्तिफ़ाक़ किया है कि वो क़तई तौर पर सदर नशीद के इस्तीफ़ा को भी कोई फैसला करते वक़्त ज़हन नशीन रखेगी ।

दौलत-ए-मुश्तरेका की वोज़ारती कमेटी तंज़ीम की नुमाइंदा कमेटी है जो 54 रुकनी दौलत-ए-मुश्तरेका की सियासी इक़दार की ख़िलाफ़ वरज़ी पर नज़र रखती है । कमेटी ने मालदीप से ख़ाहिश की कि जारीया साल में ताज़ा इंतिख़ाबात मुनाक़िद किए जाएं । कमेटी ने अपील की कि मुल़्क की हरीफ़ पार्टियों को संजीदा सियासी मुज़ाकरात करने चाहीए । कमेटी ने सदर वहीद हसन के इस ऐलान का भी नोट लिया कि तीन रुकनी कमीशन जो हालात का जायज़ा लेने के लिए रवाना किया गया है तफ़तीश करने का हक़ नहीं रखता ।

कमेटी ने अपना एहसास ज़ाहिर किया कि बैन उल-अक़वामी शराकत दारी किसी भी तहकीकात और निज़ाम के लिए ज़रूरी होती है चुनांचे मालदीप की हरीफ़ सियासी पार्टियों को इत्तिफ़ाक़ राय पैदा करना चाहीए । इस सवाल के बारे में कि हालात का दबाव हुकूमत की तबदीली की वजह बना और मालदीप की सूरत-ए-हाल का यही तक़ाज़ा था । कमेटी ने फैसला किया कि मालदीप को अपने एजंडा में शामिल किया जाय । कमेटी ने इस बात से इत्तिफ़ाक़ किया कि इस के अरकान को पोशीदा तौर पर जब तक सूरत-ए-हाल तब्दील ना हो जाए मालदीप को अपनी रुकनीयत से मुअत्तल रखना चाहीए ।

TOPPOPULARRECENT