Friday , December 15 2017

मालदीव में वहीद को इक्तेदार का हक नहीं: सुप्रीम कोर्ट का ऑर्डर

मालदीव में पीर के रोज़ पार्लियामेंट के स्पीकर के एक बयान से सियासी बोहरान और गहरा गया है | अपोजिशन मालदीवियन डेमोक्रेट्रिक पार्टी एमडीपी से जुड़े स्पीकर अब्दुल्ला शाहीद ने कहा कि निगरानकार सदर मुहम्मद वहीद को हुक्मरानी का हक नही

मालदीव में पीर के रोज़ पार्लियामेंट के स्पीकर के एक बयान से सियासी बोहरान और गहरा गया है | अपोजिशन मालदीवियन डेमोक्रेट्रिक पार्टी एमडीपी से जुड़े स्पीकर अब्दुल्ला शाहीद ने कहा कि निगरानकार सदर मुहम्मद वहीद को हुक्मरानी का हक नहीं है क्योंकि आईन के कवानीन के तहत उनकी मुद्दत खत्म हो चुकी है |

पिछले इतवार को नए सदर का इंतेखाबात हो सकता था लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने इलेक्शन के दूसरे मरहले को ऐन वक्त पर रोक दिया | कोर्ट के इस कदम की अमेरिका समेत बैनुल अक्वामी कमेटी ने जमकर मुज़म्मत की और फौरन इलेक्शन कराने की मांग की है.

वहीद को लिखे खत में स्पीकर ने कहा कि सदर के काम करने की मुद्दत बढ़ाने के लिए आईन में कोई कानून नहीं है | अदालत ने अपने फैसले में 16 नवंबर को दूसरे दौर का इलेक्शन कराए जाने तक वहीद के काम करने की मुद्दत को पांच दिनों तक बढ़ाते हुए उन्हें अपने ओहदे पर बने रहने का हुक्म दिया है गौरतलब है कि वहीद का काम करने की मुद्दत 11 नवंबर को पूरी हो गयी | आईन के कवानीन के मुताबिक नया सदर इस दिन तक चुन लिया जाना चाहिए था |

सदर के ओहदे के लिए हफ्ते के दिन पहले दौर का इलेक्शन हुआ था जिसमें साबिक सदर मुहम्मद नशीद को अक्सरियत नहीं मिलने पर इतवार को दूसरे दौर का इलेक्शन मुकर्रर था | इसके पहले पिछले सितंबर में हुए इलेक्शन को सुप्रीम कोर्ट ने नाअहल ऐलान कर दिया था |

सदर मुहम्मद वहीद के इक्तेदार में बने रहने पर पीर के रोज़ एहतिजाजी मुजाहिरों का दौर शुरू हो गया इस दौरान पुलिस और एहतिजाजियों के बीच झड़प की भी खबर है | वहीद ने कहा कि उनके काम करने की मुद्दत खत्म होने के बावजूद वह इक्तेदार में बने रहेंगे | उनके इस बयान के बाद करीब एक हजार अपोजिशन हामियों ने दारूल हुकूमत की सड़कों पर उतर गए और पुलिस पर पथराव किए जिसके जवाब में पुलिस ने उन पर लाठीचार्ज किया |

TOPPOPULARRECENT