Tuesday , December 12 2017

मालदीव हुआ राष्ट्रमंडल से अलग, कहा हमारे आंतरिक मामलों में दिया जा रहा है दखल

मालदीव ने गुरुवार राष्ट्रमंडल से खुद को अलग कर लिया। पिछले दिनों मालदीव को राष्ट्रमंडल से चेतावनी दी गई थी कि अगर उसने कानून व्यवस्था और लोकतंत्र के शासन को बढ़ावा देने में प्रगति नहीं की तो उसे संस्था से निलंबित कर दिया जाएगा। जैसाकि मालूम है यह देश पर्यटकों के लिए एक स्वर्ग के रूप में जाना जाता है। मोहम्मद नशीद के अपदस्त होने के बाद हिंद महासागर द्वीपसमूह का यह क्षेत्र राजनीतिक अशांति में फंस गया है। मोहम्मद नशीद देश के पहले लोकतांत्रिक रूप से चुने नेता थें, मगर  2012 में उन्हें विवादित परिस्थितियों में हटना पड़ा। पिछले महीने राष्ट्रमंडल मंत्रिस्तरीय कार्य समूह ने चेतावनी दी थी कि कानून और लोकतंत्र का जिस तरह से मालदीव में अभाव है उसको लेकर सगठन से उसके निलंबन पर विचार किया जाएगा।

राष्ट्रमंडल समूह में कुल 53 देश का है, जिसमें ज्यादातर वे देश हैं जो पहले ब्रिटिश साम्राज्य के उपनिवेश थे। मालदीव के विदेश मंत्रालय ने कहा कि राष्ट्रमंडल छोड़ने का फैसला कठिन है पर यह अपरिहार्य था। मंत्रालय ने कहा कि मालदीव को दंड देने का राष्ट्रमंडल का फैसला अन्यायपूर्ण है। खासतौर से तब जब राष्ट्रमंडल की मदद से गठित राष्ट्रीय जांच आयोग ने पाया कि मालदीव में सत्ता का हस्तांतरण संविधान के प्रावधानों के अनुरूप हुआ है। मालदीव का कहना है कि पहले से ही सीएमएजी और राष्ट्रमंडल सचिवालय ने मालदीव के साथ अन्याय और पक्षपातपूर्ण वाला व्यवहार किया है।

मालदीव के विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि राष्ट्रमंडल हमारे घरेलू राजनीतिक मामलों में सक्रियता दिखा रहा है, जो संयुक्त राष्ट्र और राष्ट्रमंडल के चार्टर के सिद्धांतों के खिलाफ है। मंत्रालय ने कहा कि 2012 से ही मालदीव की सरकार राष्ट्रमंडल के साथ सबसे अधिक सहयोग किया, पारदर्शिता दिखाई और हर तरह से उसके साथ जुड़ी रही। विदेश मंत्रालय ने कहा कि राष्ट्रपति अब्दुल्लाह यमीन अब्दुल गयूम की सरकार ने कुल 110 कानून लागू किए हैं। उनमें से 94 राष्ट्रमंडल चार्टर के मूल सिद्धांतों के अनुरूप हैं।

मालदीव का कहना है कि वो बड़ी आशाओं और आकांक्षाओं के साथ 1982 में राष्ट्रमंडल में शामिल हुआ था। उसे लगा था कि यह मंच सदस्य देशों के बीच महत्वपूर्ण मुद्दों पर समन्वय स्थापित करेगा, खासतौर से संगठन में शामिल छोटे राष्ट्रों के साथ। पर उसने ऐसा नहीं किया और उसके आंतरिक मामलों में दखल देना शुरू कर दिया।

TOPPOPULARRECENT