Wednesday , December 13 2017

मालद्वीप में आजलाना इंतेख़ाबात के लिए हिंदूस्तान से तआवुन की ख़ाहिश

हिंदूस्तान ने आज तवक़्क़ो ज़ाहिर की कि मालद्वीप में तमाम फ़रीक़ैन के साथ मुज़ाकरात के ज़रीया इस्तेहकाम को यक़ीनी बनाया जा सकेगा। साबिक़ सदर मालद्वीप मुहम्मद नशीद ने आज वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह से मुलाक़ात की और मुल्क में आजलाना इंतेख़ा

हिंदूस्तान ने आज तवक़्क़ो ज़ाहिर की कि मालद्वीप में तमाम फ़रीक़ैन के साथ मुज़ाकरात के ज़रीया इस्तेहकाम को यक़ीनी बनाया जा सकेगा। साबिक़ सदर मालद्वीप मुहम्मद नशीद ने आज वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह से मुलाक़ात की और मुल्क में आजलाना इंतेख़ाबात यक़ीनी बनाने के लिए मुदाख़िलत की ख़ाहिश की ।

मुहम्मद नशीद को मुल्क गीर सतह पर अवामी एहतिजाज की बिना 7 फ़रवरी को ओहदा से मुस्ताफ़ी होना पड़ा था । बादअज़ां उन्होंने ये दावा किया कि बग़ावत के ज़रीया उन्हें निशाना बनाया गया था । इस वक़्त वो मुल्क में इंतेख़ाबात का इनइक़ाद यक़ीनी बनाने और हिंदूस्तान की ताईद हासिल करने की कोशिशों में मसरूफ़ हैं ।

हुकूमत ने मालद्वीप ने आइन्दा साल इंतेख़ाबात का ऐलान किया है लेकिन मुहम्मद नशीद चाहते हैं कि जारीया साल ही इंतेख़ाबात मुनाक़िद किए जाएं । वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह से मुलाक़ात के दौरान समझा जाता है कि उन्होंने मालद्वीप में आजलाना इंतेख़ाबात के लिए मदद की ख़ाहिश की है ।

गुज़शता हफ़्ता मुहम्मद नशीद ने पी टी आई से बातचीत करते हुए कहा कि वो मुल्क में जल्द अज़ जल्द इंतेख़ाबात के लिए वज़ीर-ए-आज़म से मदद की ख़ाहिश करेंगे । वज़ारत उमोर ख़ारिजा ने बताया कि हिंदूस्तान का ये एहसास है कि मालद्वीप के तमाम फ़रीक़ैन से मुज़ाकरात के ज़रीया मुल्क में इस्तेहकाम लाया जा सकता है और 16 फ़रवरी 2012 को सदर मालद्वीप ने जो रोड मैप तैयार किया है इस पर अमल आवरी यक़ीनी बनाई जा सकती है ।

मुहम्मद नशीद ने क़ौमी सलामती के मुशीर शिव शंकर मेनन और मोतमिद ख़ारिजा रंजन मथाई से भी मुलाक़ात की। वज़ारत उमोर ख़ारजा का ये एहसास है कि हिंदूस्तान और मालद्वीप के बाहमी रवाबित काफ़ी बेहतर हैं और दोनों ममालिक मुख़्तलिफ़ शोबों जैसे तिजारत सरमाया कारी सेहत सयाहत दिफ़ा और फ़रोग़ इंसानी वसाएल के इलावा इंफ्रास्ट्रक्चर की तरक़्क़ी में मिल कर काम कर सकते हैं ।

दोनों ममालिक के कोस्ट गार्ड्स जारीया माह के अवाख़िर में मुशतर्का मश्क़ों में हिस्सा लेंगे ।

TOPPOPULARRECENT