Wednesday , September 19 2018

मालीयाती ख़सारा 5.3 फ़ीसद तक रखने हर मुम्किन कोशिश,रंगा राजन

हुकूमत मालीयाती ख़सारा जी डी पी का 5.3 फ़ीसद तक महिदूद रखने हर मुम्किन कोशिश करेगी ।वज़ीर-ए-आज़म के माली मुशीर और मआशी मुशावरती कौंसल के सदर नशीन सी रंगा राजन ने आज दरामदात ।बरामदात बैंक औफ़ इंडिया के ज़ेर-ए‍एहतेमाम मुनाक़िदा एक तक़री

हुकूमत मालीयाती ख़सारा जी डी पी का 5.3 फ़ीसद तक महिदूद रखने हर मुम्किन कोशिश करेगी ।वज़ीर-ए-आज़म के माली मुशीर और मआशी मुशावरती कौंसल के सदर नशीन सी रंगा राजन ने आज दरामदात ।बरामदात बैंक औफ़ इंडिया के ज़ेर-ए‍एहतेमाम मुनाक़िदा एक तक़रीब में अलहदा तौर पर मुनाक़िदा प्रैस कान्फ़्रैंस में कहा कि उन के ख़्याल में कौंसल की कोशिश है कि मुम्किना हद तक नज़र-ए-सानी शूदा मालीयाती ख़सारा जिस की वज़ारत फ़ीनानस ने निशानदेही की है इस के क़रीब बरक़रार रखा जाये ।

इस मुक़र्ररा हद तक बरक़रार रखने की हर मुम्किन कोशिश की जाएगी हालाँकि हुकूमत ने मालीयाती ख़सारा बराए जारीया माली साल जी डी पी का 5.1 फ़ीसद बजट में मुक़र्रर किया है लेकिन इस पर नज़र-ए-सानी करके हदफ़ 5.3 फ़ीसद कर दिया गया है क्योंकि मालीयाती वसूली में इन्हितात और ईंधन-ओ-ग़िज़ाई रियायती बलज़ में इज़ाफ़ा देखा गया है ।

रंगा राजन ने कहा कि उन के ख़्याल में अब भी मज़ीद चारता पाँच महिने मालीयाती साल के ख़त्म होने केलिए बाक़ी हैं , कई कार्यवाहीयां मुम्किन हैं ।वज़ीर-ए-आज़म की मालीयाती मुशावरती कौंसल के सरबराह का ये तबसरा 2Gस्पकटरम के नीलाम पर गर्मजोशी से ख़ाली रद्द-ए-अमल के पस-ए-मंज़र में एहमीयत रखता है ।

हुकूमत को तवक़्क़ो थी कि इस नीलाम के ज़रीये वो मालीयाती ख़सारा की पा बजाई करसकेगी । हुकूमत ने 40 हज़ार करोड़ रुपय हासिल करने की तवक़्क़ो की थी लेकिन उसे सिर्फ़ 9 हज़ार सौ 7 करोड़ रुपय हासिल हुए जबकि जारीया महिने माली साल के ख़त्म तक स्पकटरम के नीलाम का एक और मरहला बाक़ी हैं ।

रुपय की क़ीमत में इन्हितात का हवाला देते हुए रंगा राजन ने कहा कि उन के ख़्याल में जारीया साल के दौरान सरमाया की आमद काफ़ी होगीता कि मौजूदा मालीयाती ख़सारे का अज़ाला होसके । उन्होंने यक़ीन ज़ाहिर किया कि रुपय की क़दर (4 ता 55 रुपया फ़ी डालर ) के आस पास रहेगी । जारीया माली साल के इख़तेताम पर भी यही क़दर बरक़रार रहने का इमकान है ।

रुपय की क़दर डालर के मुक़ाबिल पिछ्ले जुमा को 55 की सतह से नीचे पहुंच गई थी। ये आलमी सतह पर पिछ्ले 30 दिन के अंदर रुपय की क़दर आज़म तरीन इन्हितात था । हाल ही में मर्कज़ी वज़ीर फ़ीनानस पी चिदम़्बरम ने एतिमाद ज़ाहिर किया था कि मौजूदा माली ख़सारा 2012-13 में जी डी पी के 3.7 फ़ीसद तक पहुंच जाएगा । 2011-12 में ये जी डी पी का 4.2 फ़ीसद होचुका था जो 30 साल में बुलंद तरीन सतह थी ।

TOPPOPULARRECENT