मालेगांव विस्फोट ‘साध्वी प्रज्ञा’ को एनआईए क्लीन चिट

मालेगांव विस्फोट ‘साध्वी प्रज्ञा’ को एनआईए क्लीन चिट
Click for full image

नई दिल्ली: एक अनुमानित यू-टर्न में एनआईए ने सुप्रीम कोर्ट को सूचित किया कि वह 2008 के मालेगांव विस्फोट मामले में साध्वी प्रज्ञा अधिग्रहण अनुरोध की याचिका का विरोध नहीं करती। साध्वी ने एनआईए की एक विशेष अदालत से फिरते हुए इस मामले में बरी करने का अनुरोध किया था।

साध्वी ने इस आवेदन में बंबई हाईकोर्ट के इस रिमार्क का हवाला दिया था कि उन‌के खिलाफ कोई मामला नहीं बनता। बंबई हाईकोर्ट ने 25 अप्रैल को साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को इस मामले में जमानत मंजूर की थी। साध्वी पर मालेगांव बम धमाकों की योजना करने का आरोप था।

उस समय‌ एनआईए ने कहा था कि वह अधिग्रहण अनुरोध के लिए साध्वी की याचिका का विरोध करेगी और बंबई हाईकोर्ट का रिमार्क उन‌की गारंटी स्वीकृति तक सीमित है। हालांकि एजेंसी ने आज सुप्रीम कोर्ट से कहा कि उसने साध्वी को क्लीन चिट दे दिया है और वह इस मामले से अधिग्रहण अनुरोध के लिए साध्वी की याचिका का विरोध नहीं करती। इन धमाकों में 6 लोग मारे गए और 100 घायल हो गए थे।

Top Stories