Sunday , December 17 2017

माल्टा पत्रकार की मौत रिमोट बंम से हुआ था : सरकार

पुलिस का मानना है कि माल्टा के पत्रकार की कार के नीचे बम जुड़ा था और दूर से ट्रिगर दबा कर बम ब्लास्ट किया गया था. एक सरकारी प्रवक्ता ने जांच के पहले यह विवरण दे रहे हैं. एक स्थानीय पुलिस सूत्र ने बताया कि जांचकर्ताओं का मानना है कि हत्या के लिए शक्तिशाली सेमटेक्स विस्फोटक का इस्तेमाल किया गया था और यह यदि साबित हो गया, तो यह माल्टा के लिए यह पहला केस होगा.

गौरतलब है कि माल्टा के विदेशी कर पनाहगाह के बारे में खुलासा करने वाली खोजी पत्रकार की उनकी कार में बम विस्फोट होने से मौत हो गई थी। उन्होंने लीक हुए पनामा पेपर्स के जरिए कर चोरी के लिए दूसरे देशों में पनाहगाहों से द्वीपीय देश के संबंधों का खुलासा किया था। 53 वर्षीय डेफ़ने कारूआना गालिजि़आ माल्टा के मुख्य द्वीप में स्थित बड़े शहर मोस्टा में अपने घर से निकली ही थीं कि बम विस्फोट हो गया जिससे उनकी कार के परखच्चे उड़ गए थे।

प्रधानमंत्री जोसेफ मस्कट ने बुधवार को हत्या के बारे में जानकारी देने वाले व्यक्ति को इनाम देने का वादा किया था. हालांकि, कारुआना गैलिज़िया के बड़े बेटे ने प्रस्ताव को खारिज कर दिया, और इसके बदले मस्कट को इस्तीफा देने के लिए कहा था, पत्रकार के बेटों ने कहा था कि 1 9 64 में इस द्वीप ने स्वतंत्रता जीतने के बाद से माल्टा में एक पत्रकार की पहली हत्या के लिए उन्हें राजनीतिक जिम्मेदारी लेनी चाहिए।

मिस्टर मस्कट ने इस्तीफा देने से इंकार कर दिया और गुरुवार को ब्रुसेल्स के लिए यूरोपीय संघ के शिखर सम्मेलन के लिए उड़ान भरी। उनके प्रवक्ता ने संवाददाताओं से कहा कि ब्रिटिश पुलिस ने डच फोरेंसिक विशेषज्ञों और अमेरिकी संघीय जांच ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन (एफबीआई) से इस मामले में मदद करने के लिए शामिल किया है।

उन्होंने कहा कि विदेशी विशेषज्ञों को मोबाइल फोन की पहचान करने में मदद करनी चाहिए, जिसका उपयोग बम विस्फोट करने के लिए किया गया था।

TOPPOPULARRECENT