माज़ूरैन वज़ाइफ़ से महरूम

माज़ूरैन वज़ाइफ़ से महरूम
करीमनगर २१ जनवरी (सियासत डिस्ट्रिक्ट न्यूज़) माज़ूरैन को वज़ीफ़ा मंज़ूर हो जाने सदाक़त नामा जारी करके दो माह का अर्सा होचुका है। ताहम अभी तक किसी को वज़ीफ़ा की रक़म नहीं मिल रही है और माज़ूर यन सदाक़त नामों के लिए दफ्तर के चक्कर लगा रहे हैं ल

करीमनगर २१ जनवरी (सियासत डिस्ट्रिक्ट न्यूज़) माज़ूरैन को वज़ीफ़ा मंज़ूर हो जाने सदाक़त नामा जारी करके दो माह का अर्सा होचुका है। ताहम अभी तक किसी को वज़ीफ़ा की रक़म नहीं मिल रही है और माज़ूर यन सदाक़त नामों के लिए दफ्तर के चक्कर लगा रहे हैं लेकिन मुताल्लिक़ा ओहदेदार उन्हें कोई तश्फ़ी बख्श जवाब नहीं दे रहे हैं।

सभी का एक ही जवाब है कि ये हमारे दायरा इख़तेयार में नहीं है। वज़ीफ़ा की रक़म की अदम इजराई पर माज़ूरैन की हालत काबिल-ए-रहम बन चुकी है। गुज़श्ता साल करीमनगर मंडल से मुताल्लिक़ा ओहदेदारों, डी आर डी ए को 256 दरख़ास्तें भेजी गई थीं बाद तन्क़ीह 52 दरख़ास्तों को रद्द कर दिया गया है और 204 दरख़ास्तों की मंज़ूरी की इत्तेला दी गई। बादअज़ां मुस्तहिक़ दरख़ास्त गुज़ारों की तफ़सीलात ऑनलाइन करदी गईं और माज़ूरैन में सदाक़त नामे तक़सीम करदिए गई। सिर्फ 114 माज़ूरैन को वज़ाइफ़ मिल रहे हैं और 90 अफ़राद वज़ाइफ़ से महरूम हैं

Top Stories