मिसरता में इजतिमाई क़ब्रें दरयाफ़त

मिसरता में इजतिमाई क़ब्रें दरयाफ़त
मिसराता 27 अक्तूबर (एजैंसीज़) लीबिया की उबूरी हुकूमत के वज़ीर तेल अली तरहौनी ने आज मिसराता के इन्क़िलाबीयों की सताइश की जिन्हों ने मुअम्मर क़ज़ाफ़ी के आबाई क़स्बा सुरत को फ़तह कर लिया है ।

मिसराता 27 अक्तूबर (एजैंसीज़) लीबिया की उबूरी हुकूमत के वज़ीर तेल अली तरहौनी ने आज मिसराता के इन्क़िलाबीयों की सताइश की जिन्हों ने मुअम्मर क़ज़ाफ़ी के आबाई क़स्बा सुरत को फ़तह कर लिया है ।

उन्होंने कहा कि मुझे उन की अपने आप पर क़ाबू पाने की सलाहीयत देख कर हैरत हुई जबकि बाक़ी दुनिया किसी और बात पर हैरतज़दा ही। ज़ेर-ए-क़ब्ज़ा शहर में तक़रीबन 300 बाग़ी जनगजो को इजतिमाई क़ब्रों में दफ़न करने का इन्किशाफ़ हुआ है।

कई नाशें ऐसी भी मिली हैं जिन के हाथ पुश्त पर बंधे हुए हैं और सुरों पर गोली के मोहलिक ज़ख़म हैं।मुक़ामी क़ब्रिस्तान से जुमला 572 नाशें बरामद हुई हैं जो मुबय्यना तौर पर इन्क़िलाबी जनगजो के किराया के क़ातिल थॆ।

इन में से कई को इजतिमाई सज़ाए मौत दी गई। मिसरा ता के डायरैक्टर जनरल महाबस शेख़ फ़तह दरीज़ ने कहा कि ग़ैर मुल्की किराया के क़ातिलों पर भी कोई रहम नहीं किया गया ।

Top Stories