Monday , December 18 2017

मिस्री इंतिख़ाबात में इस्लाम पसंदों को मज़ीद इस्तिहकाम यक़ीनी

क़ाहिरा, १५ दिसम्बर: (पी टी आई) इस्लाम पसंद यक़ीनी तौर पर मिस्री पारलीमानी इंतिख़ाबात के दूसरे मरहला में अपनी ग़ालिब अक्सरीयत को मज़ीद मुस्तहकम करलींगे जबकि लाखों राय दहनदे आज अपने हक़ राय दही से इस्तिफ़ादा करते हुए 9 गवर्नर्स के मुस्

क़ाहिरा, १५ दिसम्बर: (पी टी आई) इस्लाम पसंद यक़ीनी तौर पर मिस्री पारलीमानी इंतिख़ाबात के दूसरे मरहला में अपनी ग़ालिब अक्सरीयत को मज़ीद मुस्तहकम करलींगे जबकि लाखों राय दहनदे आज अपने हक़ राय दही से इस्तिफ़ादा करते हुए 9 गवर्नर्स के मुस्तक़बिल के फ़ैसला कर देंगी।

पहले तारीख़ साज़ इंतिख़ाबात में जो सदर हुसना मुबारक की इक़तिदार से बेदखली के बाद पहली बार मुनाक़िद किए गए हैं। राय दही निसबतन पुरअमन थी।

किसी बड़ी बेक़ाइदगी की इत्तिला नहीं मिली। मिस्र के एतिदाल पसंद इस्लाम की अलमबरदार जमात इख़वान अलमुस्लिमीन सब से बड़ी ताक़त बन कर उभरी है। राय दही के पहले मरहला मैं फ़्रीडम ऐंड जस्टिस पार्टी ने जुमला राय दही के 36 फ़ीसद वोट हासिल की, लेकिन हैरतअंगेज़ बात ये थी कि बुनियाद परस्त सलफ़ी उल-नूर पार्टी ने 25 फ़ीसद वोट हासिल की।

इस्लाम पसंद इमकान हीका जारीया हफ़्ता अपना मौक़िफ़ मज़ीद मुस्तहकम बनाएंगे जबकि देही और क़दामत पसंद इलाक़ों में राय दही होगी। बीबी सी की इत्तिला के बमूजब ताहम राय दही का साबिक़ मरहला के बरअक्स तक़रीबन तमाम मराकज़ राय दही बरवक़्त खोल दिए जायेंगे, जिस का सुप्रीम जोडीशील कमेटी बराए इंतिख़ाबात में हुक्म दिया है।

सरकारी टेलीविज़न ने ख़बर दी। ताहम जीज़ा के एक मर्कज़ राय दही को हरीफ़ उम्मीदवारों के दरमयान फायरिंग के तबादला के बाद 3 घंटे के लिए बंद कर दिया गया था। फायरिंग में कोई भी हलाक नहीं हुआ। ताहम फ़ौज ने 7 अफ़राद को हिरासत में ले लिया है।

तक़रीबन एक करोड़ 80 लाख मिस्री अवाम राय दही के अहल हैं। दो रोज़ा राय दही और इस के एक हफ़्ता बाद दूसरे मरहला की राय दही में ये राय दहनदे अपना हक़ राय दही इस्तिमाल कर सकते हैं। इख़वान अलमुस्लिमीन के आम रहनुमा मुहम्मद हादी ने राय दहिंदों से रब्त पैदा करते हुए कहा कि इख़वान अलमुस्लिमीन एक वसीअ अलबुनियाद मख़लूत हुकूमत तशकील देना चाहती है।

उन्हों ने कहा कि इख़वान अलमुस्लिमीन मिस्र पर तन्हा-ए-हुकूमत नहीं करेगी। पार्लीमैंट में मुख़्तलिफ़ रंगों की एक कहकशां होगी, जिन्हें एक सिम्त और एक मक़सद पर मुत्तफ़िक़ होना पड़ेगा। इस्लाम पसंद उम्मीदवार तवक़्क़ो है कि साबिक़ा कामयाबीयों में मज़ीद इज़ाफ़ा करेंगी। इंतिहाई क़दामत पसंद सलफ़ी पार्टी उल-नूर पेश क़ियासी के मुताबिक़ क़दामत पसंद इलाक़ों में शानदार मुज़ाहरा करेगी।

बी बी सी के बमूजब पहले मरहला की राय दही में उल-नूर पार्टी 24.4 फ़ीसद वोट हासिल करचुकी है और इस ने 5 नशिस्तों पर क़बज़ा कर लिया है।

TOPPOPULARRECENT