Monday , December 18 2017

मिस्र में तशद्दुद 50 हलाक

मिस्र में 2011 के इन्क़िलाब की तीसरी सालाना याद के मौक़े पर इस्लाम पसंद माज़ूल सदर मुहम्मद मुर्सी के हामियों और मुख़ालिफ़ीन की रैलियों के दौरान झड़पों में कम से कम 50 अफ़राद हलाक होगए।

मिस्र में 2011 के इन्क़िलाब की तीसरी सालाना याद के मौक़े पर इस्लाम पसंद माज़ूल सदर मुहम्मद मुर्सी के हामियों और मुख़ालिफ़ीन की रैलियों के दौरान झड़पों में कम से कम 50 अफ़राद हलाक होगए।

इस अरब मुल्क में फ़ौज की ताईद याफ़्ता हुकूमत की हिमायत और मुख़ालिफ़त में गुज़िशता रोज़ भी क़ौमी दार-उल-हकूमत क़ाहिरा में ज़बरदस्त रैैलियां मुनज़्ज़म की गई थी जहां हरीफ़ों के माबैन घमसान लड़ाई हुई थी, लेकिन पुलिस ने फ़ौजी हुकूमत के मुख़ालिफ़ीन की रैलियों को मुंतशिर कर दिया। तशद्दुद फूट पड़ने के बाद क़ाहिरा इस्कंदरिया और दीगर शहरों में हज़ारों एहितजाजी गिरफ़्तार कर लिए गए।

वज़ारत-ए-सेहत ने मुल्क भर में गुज़शता 24 घंटों के दौरान तशद्दुद के सबब हलाक होने वालों की तादाद 49 बताई है। कई दीगर मुक़ामात पर मुहम्मद मुरसी के हामियों से पुलिस और फ़ौजी हुकूमत के हामियों के दरमियान झड़पें हुई हैं। मुहम्मद मुर्सी सदारती इंतिख़ाबात में मुंतख़ब होने के बाद बमुश्किल से एक साल बरसर-ए-इक़तिदार रहे थे, जिन्हें गुज़िशता साल जुलाई के दौरान पुरअमन फ़ौजी बग़ावत ने माज़ूल कर दिया गया था। वज़ारत-ए-सेहत ने आज कहा कि अक्सर हलाकतें क़ाहिरा इस्कंदरिया मुनिया और दीगर मुक़ामात पर हुई हैं जब कि 247 अफ़राद ज़ख़मी होगए।

वाज़िह रहे कि मिस्र के पहले जम्हूरी तौर पर मुंतख़ब सदर मुहम्मद मुर्सी की जुलाई में माज़ूली के बाद से जारी एहतिजाज में ताहाल सैंकड़ों अफ़राद हलाक होचुके हैं। मिस्र के वज़ीर-ए-दाख़िला मुहम्मद इबराहीम ने कहा कि गुज़शता रोज़ से मुख़्तलिफ़ मुक़ामात पर ज़ाइद सेक्यूरिटी इंतिज़ामात किए गए थे। उन्होंने अवाम पर ज़ोर दिया कि वो इन वाक़ियात से ख़ौफ़ज़दा हुए बगै़र इन्क़िलाब मिस्र की तीसरी सालगिरह मनाए। फ़ौज और हुकूमत के हज़ारों हामी तहरीर स्कायर कई अहम मुक़ामात पर जमा हुए ये वही मुक़ाम है जहां 2011 में 18 रोज़ा अवामी एहतिजाज के बाद मर्द आहन समझे जाने वाले सदर हुस्नी मुबारक को इक़तिदार से माज़ूल होना पड़ा था जो गुज़िशता तीन दहाईयों से आहनी शिकंजे के साथ हुक्मरानी कररहे थे। फ़ौजी हुकूमत के हामियों की कसीर तादाद मिस्री क़ौमी पर्चम थामे हुए थे और जगह जगह बड़े बैनर्स नसब किए गए थे जिन पर फ़ौज के सरबराह जनरल अबदालफ़तह अलसीसी की तसावीर थीं।

इस दौरान इत्तिलाआत मौसूल हुई हैं कि शोरिश ज़दा जज़ीरानुमा सनाई में गुज़िशता रोज़ एक फ़ौजी हेलीकाप्टर को मार गिरा गया। ग़ैर मुसद्दिक़ा इत्तिलाआत के मुताबिक़ अस्करीयत पसंदों ने इस हेलीकाप्टर को अपना निशाना बनाया था, जिसके अरकान अमला में शामिल पाँच सिपाही हलाक होगए। नहर सोयुज़ के जुनूबी बाबुद दाखिला पर बड़ा कार बम धमाका हुआ जिसमें 9 अफ़राद ज़ख़मी होगए।

TOPPOPULARRECENT