Thursday , April 26 2018

मिस्र में पेन किलर रखने के जुर्म में ब्रिटिश नागरिक को तीन साल की सज़ा

जब आप दर्द से जूझ रहे हों तो राहत के लिए कोई भी दर्द निवारक गटक लेना गलत नहीं लगता. लेकिन दर्द निवारकों का नियमित प्रयोग आपकी किडनी भी खराब कर सकता है. खैर, शायद कितने लोग ऐसे हैं जो ये नहीं जानते कि मिस्र में पेन किलर की दवाईयों पर प्रतिबंध है। और ऐसे में अनजाने में कोई इन दवाईयों के साथ मिश्र में पाया गया तो उन्हें जेल हो सकती है।

ऐसा ही वाक़्या एक ब्रिटिश महिला 33 साल की लॉरा प्लमर के साथ हुआ, जिसके पास से मिश्र में 300 पेनकिलर टैबलेट पाया गया और इस जुर्म में उसे तीन साल की सज़ा सुनाई गई है. उनपर दवाईयों की तस्करी का आरोप लगाया गया था. नौ अक्तूबर को लॉरा के सूटकेस में ट्रेमाडॉल टैबलेट पाई गई, जिसके बाद उन्हें गिरफ्तार किया गया.

प्लमर ने दावा किया है कि उनकी ये दवाईयां ब्रिटेन में वैध है लेकिन मिस्र में इनपर प्रतिबंध है, इस बात की उन्हें जानकारी नहीं थी. उनके परिवार का कहना है कि उनके वकील ने अपील दायर कर दी है. अदालत में सुनवाई के समय प्लमर की मां रोबर्ट सिनक्लेर वहीं मौजूद थी. उन्होंने बताया, “आज के फ़ैसले से मैं सदमे में हूं.”

परिजनों का कहना है कि प्लमर ने दवाईयों को छिपाने की कोशिश भी नहीं की, जिसे उनके एक दोस्त ने दी थी. जब उन्हें अधिकारियों ने पकड़ा तो प्लमर को लगा कि ये किसी क़िस्म का मज़ाक है.

प्लमर अपने साथी उमर काबू के साथ हूरगादा के रेड सी रिज़ॉर्ट में छुट्टियां बिताने गई थीं. वहीं से प्लमर को पुलिस ने हिरासत में लिया.सजा की खबर पर ब्रिटिश सांसद कार्ल टर्नर ने दुख व्यक्त किया है.

उन्होंने कहा, “इस फ़ैसले के बाद लॉरा का जीवन बर्बाद हो जाएगा. यह सही नही है. यह फ़ैसला वाकई में चिंतित करने वाला है.” टर्नर ने कहा कि हमें दूसरे देश के क़ानूनों का सम्मान करना चाहिए. यह ग़लत था लेकिन प्लमर एक ईमानदार और मेहनती लड़की है.

विदेश और राष्ट्रमंडल कार्यालय के प्रवक्ता ने कहा, “लॉरा और उनके परिवार की पूरी मदद की जाएगी. हमारा दूतावास मिस्र के अधिकारियों के साथ नियमित रूप से संपर्क में बना हुआ है.”

TOPPOPULARRECENT