मिस्र सदर ने 572 क़ैदीयों की सज़ाएं माफ़ कर दी

मिस्र सदर ने 572 क़ैदीयों की सज़ाएं माफ़ कर दी
मिस्र के सदर डोक्टर मुहम्मद मर्सी ने जेलों में क़ैद की तवील सज़ाएं काटने वाले 572 क़ैदीयों की सज़ाएं माफ़ करने का हुक्म दिया है। इन में से 532 क़ैदी मुख़्तलिफ़ फ़ौजी अदालतों की जानिब(तरफ‌) से फ़ौजी नौईयत के मुक़द्दमात के तेहत सज़ा याफ़ता हैं।

मिस्र के सदर डोक्टर मुहम्मद मर्सी ने जेलों में क़ैद की तवील सज़ाएं काटने वाले 572 क़ैदीयों की सज़ाएं माफ़ करने का हुक्म दिया है। इन में से 532 क़ैदी मुख़्तलिफ़ फ़ौजी अदालतों की जानिब(तरफ‌) से फ़ौजी नौईयत के मुक़द्दमात के तेहत सज़ा याफ़ता हैं।
मिस्र अख़बार उल-यौम एलिसा बहकी रिपोर्ट के मुताबिक़ सदर ने 39 ऐसे क़ैदीयों की सज़ाएं भी माफ़ की हैं जो संगीन नौईयत के मुक़द्दमात के तेहत सज़ा याफ़ता हैं जबकि नए हुक्म नामे के तेहत फ़ौजी अदालतों के सज़ा याफ़ता 16 महरो सेन की सज़ाओं में तख़फ़ीफ़ का हुक्म दिया है।

क़ब्लअज़ीं वज़ारत-ए-दाख़िला और वज़ारत क़ानून-ओ-इंसाफ़ की जानिब(तरफ‌) से कहा गया था कि मुल्क में एमरजैंसी बर्ख़ास्त करने के बाद जेलों में फ़ौजी मुक़द्दमात का सामना करने वाला कोई शख़्स क़ैद नहीं रहा है, तमाम असीरान को रिहा कर दिया गया है। इस सिलसिले में दोनों वज़ारतों ने तमाम क़ैदीयों की रिहाई के दस्तावेज़ी सबूत भी हुकूमत को फ़राहम कर दीए थे। इस के साथ साथ वज़ारत क़ानून की जानिब से कहा गया था कि हम ने क़ौमी इंसानी हुक़ूक़ कमेटी से भी कहा है कि वो हंगामी हालत की बर्ख़ास्तगी के बाद जेलों का दौरा करे और अपनी शिकायात हम तक पहुंचाए।

Top Stories