Friday , December 15 2017

मीदवीदेफ़ अब रूस के वज़ीर-ए-आज़म(प्रधान मंत्री)

रूस के साबिक़ सदर देमीतरी मीदवीदेफ़ मुल्क के नए वज़ीर-ए-आज़म(प्रधान मंत्री) बन गए हैं। रूसी पार्लीमैंट ने वज़ीर-ए-आज़म (प्रधान मंत्री)के ओहदे पर मीदवीदेफ़ की तक़र्रुरी की कल तौसीक़ (पुष्टि ) करदी । रूसी पार्लीमैंट के ऐवान-ए-ज़ेरी

रूस के साबिक़ सदर देमीतरी मीदवीदेफ़ मुल्क के नए वज़ीर-ए-आज़म(प्रधान मंत्री) बन गए हैं। रूसी पार्लीमैंट ने वज़ीर-ए-आज़म (प्रधान मंत्री)के ओहदे पर मीदवीदेफ़ की तक़र्रुरी की कल तौसीक़ (पुष्टि ) करदी । रूसी पार्लीमैंट के ऐवान-ए-ज़ेरीं डोमा में अक्सरीयत(मेजोरिटी) (मेजोरिटी)हासिल होने के साथ ही मीदवीदेफ़ के वज़ीर-ए-आज़म (प्रधान मंत्री)बनने का रास्ता साफ़ हो गया।

मीदवीदेफ़ के हक़ में 299 अरकान-ए-पार्लीमैंट ने वोट डाले जबकि उन के ख़िलाफ़ 144 वोट पड़े। हुक्मराँ यूनाईटेड रशिया पार्टी और लिबरल डैमोक्रेटिक पार्टी के तमाम अराकीन ने मीदवीदेफ़ के हक़ में वोटिंग की जबकि कमीयूनिसट पार्टी और जस्ट रशिया के अराकीन ने उन के ख़िलाफ़ वोट डाले।इस तरह 450 रुकनी डीवमा मैं मीदवीदेफ़ ने 299 वोट लेकर अक्सरीयत(मेजोरिटी) हासिल करली।

अक्सरीयत के लिए कम अज़ कम (कम से कम)226 वोटों की ज़रूरत थी।इस तक़र्रुरी के साथ ही मीदवीदेफ़ और सदर व्लादीमीर पुतिन के दरम्यान मुल्क के दो अहम ओहदों पर वज़ीर-ए-आज़म (प्रधान मंत्री)

और सदर का तबादला मुकम्मल होगया। सदारती इंतिख़ाबात में पुतिन की जीत से क़ब्ल मीदवीदेफ़ मुल्क के सदर के ओहदे पर फ़ाइज़ थे जबकि पोतिन वज़ीर-ए-आज़म(प्रधान मंत्री) थे।

TOPPOPULARRECENT